सोमवार, मार्च 08, 2021

औरत | 08 मार्च | अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं | डॉ. वर्षा सिंह


Dr. Varsha Singh

औरत

      -डॉ. वर्षा सिंह

मां, बेटी, बहन, सहेली हूं, बेशक़ मैं तो इक औरत हूं।

पत्नी, भाभी ढेरों रिश्ते, मैं हर इक घर की इज़्ज़त हूं।

अपनी करुणा से मैंने ही, इस दुनिया को सींचा हरदम,
बंट कर भी जो बढ़ती जाती, ऐसी ममता की दौलत हूं।

राधा, मीरा, लैला बन कर, मैं चली प्रेम की राहों पर,
बन कर दुर्गा काली मैं ही,  दुष्टों के लिये क़यामत हूं।

मैं सहनशीलता, धीरज का, पर्याय सदा बनती आई,
संकट का समय रहा जब भी, मैं बनी स्वयं की ताकत हूं।

"वर्षा", सलमा, सिमरन, मरियम, हो नाम भले कोई मेरा,
कह लो औरत, महिला, वूमन, आधी दुनिया की सूरत हूं।

          ----------------------

6 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन,महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं वर्षा जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं प्रिय कामिनी जी 🙏

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर और हृदय स्पर्शी गीतिका।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार आदरणीय शास्त्री जी 🙏

      हटाएं