रविवार, मई 29, 2011

बोल प्यार के.....


79 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार के तो मीठे बोल मन में हजार उमंग-तरंग भर देती हैं ....
    प्यार का मनुहार करती सुन्दर प्रेमपगी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. aadarniya varshaji,

    ek - ek shabd prem ki gahrai ko vyakt karta hai, aap har baar itna achchha likhti hain ki hum niruttar ho jaate hain , bahut shaandaar prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्दों के धागे से सुख के सपने सिल जाएँ ...बहुत सुन्दर भाव ... अच्छी प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद भावभीनी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार भरी मनमोहक पंक्तियाँ.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्यार के मोल वास्तव में अनमोल हैं.आपने प्यार के भावों को गहराई से प्रस्तुत किया है.अदभुत आनंद दे रही है आपकी यह अभिव्यक्ति.
    मेरे ब्लॉग पर आप आयीं इसके लिए बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Komal bhavanaon ko ukeratee is sundar rachana hetu meri badhai sweekaren

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut khoobsoorat abhivyakti.
    dil ko chhoo rahee hai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (30-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये बोल प्यार के मौन है..जो अनंत की भाषा कहते है..बहुत ही प्रेममयी सुंदर रचना....बड़े दिनों बाद आपकी नयी पोस्ट पढ़ सका........।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मौन की शक्ति का आभास है आपको , सुंदर रचना ,बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्यार के मोल वास्तव में अनमोल हैं.आपने प्यार के भावों को गहराई से प्रस्तुत किया है.अदभुत आनंद दे रही है आपकी यह अभिव्यक्ति.
    मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं आपके साथ हैं !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कितना तरसा है मन मीठे -
    बोल तुम्हारे मिल जाएँ ,
    बोल प्यार के तुम बोलो तो ,
    ऐसाफिर कुछ हो जाए ,
    बस इक बार तुम मिल जाओ तो ,
    रूठा सावन मिल जाए ,
    सावन बिन बदरा आये ,
    वर्षा का मन खिल जाए ,
    वर्षा का मन हर्षाये ।
    सुन्दर रचना ,दर्द यही है "गुजरा हुआ ज़माना आता नहीं दोबारा ,हाफ़िज़ खुदा तुम्हारा "

    उत्तर देंहटाएं
  15. सपनो के धागों से मेरे
    सुख के सपने सिल जाये

    कविता के भाव अतिसुन्दर, उत्कृष्ट शब्द प्रयोग बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. kisi ki khamosi is kader bechain karti hai ye apki rachna me saaf dikhta hai.. bhut hi acche se bataya hai apne...

    उत्तर देंहटाएं
  17. really the words full of love have the power to transform your foes into friends..
    nice post agn !!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. सपनो के धागों से मेरे
    सुख के सपने सिल जाये

    हृदयस्पर्शी पंक्तियाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर गीत.
    प्यार से सराबोर.

    उत्तर देंहटाएं
  20. कविता रावत जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  21. संजय कुमार चौरसिया,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद..
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  22. संगीता स्वरुप जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  23. वन्दना जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी कविता पसन्द आई....
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है....

    मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करके आपने जो सम्मान दिया है और उत्साहवर्द्धन किया है, उस के लिए मैं आपकी की अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  24. यशवन्त माथुर जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद.
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  25. राकेश कुमार जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  26. अबनीश सिंह चौहान जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. विशाल जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद..
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  28. Er. सत्यम शिवम जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुनील कुमार जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. रश्मि प्रभा जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद..
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  31. मदन शर्मा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  32. वीरूभाई जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद.
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  33. कुश्वंश जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुषमा'आहुति' जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  35. ज्योति मिश्रा जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक धन्यवाद..
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  36. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया...
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  37. कुंवर कुसुमेश जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत सुन्दर प्रेममयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  39. मन के मधुर प्रेमभावों और सुन्दर शब्दों को गीत के धागे में पिरोकर जो प्यारी रचना तैयार की है आपने .....वाकई
    मनोहारी है | चित्र संयोजन रसानंद को द्विगुणित कर रहा है |

    उत्तर देंहटाएं
  40. शब्दों के धागों से सुख के सपने सील जाएँ ... बहुत उम्दा ... आमीन ...
    बहुत कोमल पंक्तियाँ हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों का संगम है इस रचना में ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  42. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 31 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  43. कैलाश सी. शर्मा जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  44. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया...
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  45. दिगम्बर नासवा जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद.
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  46. सदा जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  47. संगीता स्वरुप जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये पुनः आभार.
    मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करके आपने जो सम्मान दिया है और उत्साहवर्द्धन किया है, उस के लिए मैं आपकी अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  48. प्रिय तुम्हारे दीर्घ मौन को क्या समझूं ,
    हाँ समझू या न समझूं !
    मौन मुखरित है -"बोल तुम्हारे मिल जाएँ ,बोल तुम्हारे सुनकर मेरी मन की कलियाँ खिल जाएँ "
    ताज़ा रचना प्रतीक्षित है .

    उत्तर देंहटाएं
  49. बेहद भावभीनी प्रस्तुति। आभार|

    उत्तर देंहटाएं
  50. Richa P Madhwani ,
    WELCOME......I am waiting for ur comment.

    उत्तर देंहटाएं
  51. Patali-The-Village ,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  52. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए धन्यवाद!
    http://seawave-babli.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  53. बहुत ही मधुर गीत! दिल को पुलकित कर गया

    उत्तर देंहटाएं
  54. विवेक जैन जी,
    मेरी कविता को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  55. उर्मि जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  56. 'साहिल' जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  57. बेहद भावभीनी प्रस्तुति। बहुत सुंदर प्रेम रचना

    उत्तर देंहटाएं
  58. वर्षा जी,
    आपकी कविताओं में मिसरी की मीठास घुली रहती है.भावों के लिए आपका शब्द चयन असाधारण रहता है.
    बोल तुम्हारे सुनकर मेरे मन की कलियाँ खिल जाएँ....
    वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  59. अरुण चन्द्र रॉय जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  60. अनुराग शर्मा जी,Smart Indian - स्मार्ट इंडियन
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  61. प्रदीप श्रीवास्तव जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  62. Sapna Nigam ji,
    Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  63. आप से अच्छा लिखने की प्रेरणा मिलती है बहुत सुंदर......
    मन करता है की बार बार पढ़ें !!

    उत्तर देंहटाएं
  64. मदन शर्मा जी,
    मैं आपको धन्यवाद भर कहूं तो कम होगा, आपके अपनत्व ने मुझे भावविभोर कर दिया है।
    अत्यंत आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  65. डाक्टर साहेब । एक निवेदन करना था। आप पहले तस्बीर तलाश कर उस अनुसार रचना लिखती है या रचना लिखने के वाद उसके अनुकूल चित्र तलाशती है।

    उत्तर देंहटाएं
  66. A lovely photo and a beautiful poem.

    Best wishes,
    Joseph

    उत्तर देंहटाएं
  67. कितना तरसा है मन ,मीठे... बोल तुम्हारे मिल जाये
    प्रेम की अति सुंदर भावाव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  68. Brijmohan Shrivastava ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.
    You're always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  69. Joseph Pulikotil ji,
    Thanks for your comments.Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  70. अंजू जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें.

    उत्तर देंहटाएं
  71. prem ko bahut hi sundar tarike se abhivyakt kiya hai aapne.. bahut dino se aapki koin ghazal padhne ko nahi mili

    उत्तर देंहटाएं
  72. डॉ आशुतोष मिश्रा आशु जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    हार्दिक धन्यवाद!

    कृपया मेरे ब्लॉग
    http://ghazalyatra.blogspot.com/
    पर visit कर मेरी नई गज़ल पढ़ने की अनुकम्पा करें.

    उत्तर देंहटाएं