शनिवार, अप्रैल 14, 2018

साहित्य वर्षा : 6 डॉ. महेश तिवारी का काव्य-समीक्षा चिंतन - डॉ. वर्षा सिंह

प्रिय मित्रों,
       स्थानीय साप्ताहिक समाचार पत्र "सागर झील" में प्रकाशित मेरा कॉलम "साहित्य वर्षा" । जिसकी छठवीं कड़ी में पढ़िए मेरे शहर सागर के वरिष्ठ साहित्यकार एवं समीक्षक डॉ महेश तिवारी का काव्य- समीक्षा चिंतन।....  और जानिए मेरे शहर के साहित्यिक परिवेश को  ....

साहित्य वर्षा : 6

डॉ. महेश तिवारी का काव्य-समीक्षा चिंतन
- डॉ. वर्षा सिंह

साठोत्तरी हिन्दी कविता के संदर्भ में कवि धूमिल ने गहराई से चिन्तन-मनन किया कि आखिर कविता क्या है ? कवि कर्म की जिम्मेदारियां और सरोकार अगर कुछ है तो किसके प्रति है? कविता के तत्वों में से किस तत्व के साथ रहना चाहिए? क्योंकि कुछ पाश्चात्य विचारों के समर्थक विद्वानों का मानना था कि भावना का प्रबल आवेग क्षणिक आनन्द की अनुभूति तो करा सकती है और कविता कुछ समय के लिए हमारे तनाव दूर तो कर सकती है ,किन्तु जीवन को सही तरीके से परिभाषित नहीं कर सकती। लेकिन कवि धूमिल ने पाया कि कविता का जीवन से गहरा नाता है और इसीलिए जीवन के कठिन संघर्षों का की व्याख्या भी कविता में की जा सकती है। जीवन के प्रत्येक उतार-चढ़ाव पर कविता लिखी जा सकती है। इसी तरह के विचार डॉ महेश तिवारी के भी हैं। वे कविता को अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम तो मानते ही हैं, साथ ही वे कविता को भावनाओं के प्रस्फुटन के उत्तम धरातल के रूप में भी स्वीकार करते हैं।
वस्तुतः काव्य साहित्य की वह विधा है जो हृदय में रसों का संचार करती है, वह रस शांत, श्रृंगार से ले कर वीभत्स तक हो सकते हैं। काव्य की समीक्षा करना अत्यंत चुनौती भरा काम माना गया है क्योंकि काव्य का संबंध मस्तिष्क की अपेक्षा हृदय से माना गया है। मस्तिष्क तर्कों के आधार पर काम करता है जबकि हृदय तर्कों को के आधार पर काम नहीं करता। आचार्य रामचंद्र शुक्ल का मत है कि ‘‘काव्य का आकलन गद्य की तरह नहीं किया जा सकता है। काव्य का आकलन करने के लिए समीक्षक में रसबोध होना आवश्यक है।’’ हिन्दी काव्य की समीक्षाकला की विस्तृत मीमांसा की है समीक्षक डॉ. महेश तिवारी ने। इस विषय पर उनका एक ग्रंथ भी है-‘‘हिन्दी काव्य-समीक्षा के प्रतिमान’’। जिसमें उन्होंने हिन्दी साहित्य के इतिहासबद्ध कालखण्डों में विभक्त काव्य समीक्षा की प्रवृत्तियों को एक पुस्तक के रूप में संजोया है। सन् 1050 में सागर जिले के देवल चौरी ग्राम में जन्में डॉ. महेश तिवारी के दो काव्य संकलन भी प्रकाशित हो चुके हैं। वे अध्यापन, राजनीति, पत्रकारिता और लोकजीवन के अपने अनुभवों को अपने उद्बोधनों में साझा किया करते हैं। काव्य की प्रवृत्तियों के प्रति डॉ. तिवारी की एक गहरी समीक्षात्मक दृष्टि है। उन्होंने भारतेन्दुयुग से छायावादोत्तर युग तक की काव्य प्रवृत्तियों, कविता की आलोचना के विकास, उसके मूल्य परिवर्तन तथा मूल्यचिंतन को बड़ी सूक्ष्मता से जांचा-परखा है।
डॉ. तिवारी का कहना है कि ‘‘आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी जी के साहित्य को राष्ट्र की नई आकांक्षाओं के साथ जोड़ने का भी प्रयास किया गया है।’’ वे मानते हैं कि ‘‘आचार्य रामचंद्र शुक्ल के समीक्षादर्श का मूलतत्व रस और लोकमंगलवाद है।’’ डॉ. महेश तिवारी के पास काव्य की समीक्षा का एक अपना मौलिक पैमाना है। वे कविता को सौंदर्यबोध ओर मनोविज्ञान दोनों से जोड़ कर देखते हैं। वे मानते हैं कि कविता को सपाटपन से बचना चाहिए। कविता का मूल जब रस है तो कविता में एक लयबद्धता भी रहे, भले ही कविता छंदबद्ध हो या अतुकांत हो। काव्य को किस प्रकार की समीक्षा की आवश्यकता है, इस तथ्य की गहराई में उतरते हुए डॉ महेश तिवारी ने भारतेंदु और द्विवेदी युगीन काव्य समीक्षा के गुण-दोष का अकलन करते हुए लिखा है कि -‘‘शास्त्र की रूढ़ियों को महत्व न देते हुए भी महत्वपूर्ण शास्त्रीय स्थापनाओं को आदरणीय द्विवेदी ने खुलेमन से स्वीकार किया है। काव्य के गुण-दोष विवेचन में वे शास्त्रीय मान्यताओं के अधिकाधिक निकट रहे।’’ वहीं, जब डॉ तिवारी आचार्य रामचंद्र शुक्ल के समीक्षादर्श की चर्चा करते हैं तो स्पष्ट करते हैं कि ‘‘कविता के विषय में आचार्य शुक्ल की मूलवर्ती धारणा यही है ि कवह मनुष्य की, मनुष्यता की सबसे बड़ी संरक्षिका है। सभ्यता के विकास के साथ-साथ जैसे-जैसे मनुष्यता के खो जाने का संकट बढ़ता जा रहा है, कविता की अवश्यकता भी बढ़ती जा रही है। आचार्य शुक्ल ने कविता के भविष्य के प्रति निष्कंप शब्दों में अपनी आस्था व्यक्त की है, जब तक मनुष्ता है कविता भी रहेगी।’’
हिन्दी के स्वच्छंदतावादी कवियों के चिंतन के संबंध में डॉ. महेश तिवारी कहते हैं कि ‘‘यह सही है कि छायावादी कवियों के ये विचार समीक्षा की दृष्टिकोण से बहुत गहरे और तात्विक नहीं है किन्तु इतना अवश्य है कि स्वानुभूति से सम्बद्ध होने के कारण वे एक ऐसी प्रामाणिकता से युक्त हो उठे हैं, जिसे ध्यान में रखना ही होगा।’’ प्रयोगवादी कविताओं के संबंध में डॉ. तिवारी धर्मवीर भारती के इस कथन को उद्धृत करते हैं कि ‘‘प्रयोग और प्रगति में विरोध नहीं है। क्योंकि प्रयोग स्वयं प्रगति के प्रति आस्थावान होता है। प्रयोग उसी स्थिति में प्रगति का विरोधी है जहां प्रगति प्रयोग की सहज गति न बन कर, स्वचालित और आत्मानुभूति पर आधारित न हो कर बाह्यारोपित होती है। प्रगतिवाद की प्रगति ऐसी बाह्यारोपित प्रगति है।सच्ची प्रगति मनुष्य की विकासशील प्रवृत्ति में निहित होती है।’’

‘‘कविता की परख के जो प्रतिमान छायावाद तक विकसित हुए, छायावातोत्तर काव्य समीक्षकों ने अपने समय की कविता के संदर्भ में मूल्यांकन के नए आयाम और नई दिशाएं उद्घाअत कीं। आलोचना में कविता के सर्वांगपूर्ण विश्लेषण की प्रवृत्ति विकसित हुई।’’ यह मानना है समीक्षक डॉ. महेश तिवारी का। डॉ. तिवारी ने पी. एचडी. उपाधि के लिए लिखा गया अपना शोधप्रबंध उपाधि मिलने के बहुत समय बाद प्रकाशित कराया। इस संबंध में वे बताते हैं कि पारिवारिक एवं सामाजिक दायित्वों में उलझे रहने के कारण उनका ध्यान इस ओर कभी नहीं गया कि उन्हें अपना शोधग्रंथ प्रकाशित कराना चाहिए। किन्तु उनके गुरू डॉ शिवकुमार मिश्र ने उनसे इच्छा व्यक्त की कि वे डॉ. तिवारी का शोधग्रंथ पुस्तकाकार प्रकाशित रूप में देखना चाहते हैं। अपने गुरू की इच्छा को पूर्ण करने के लिए डॉ तिवारी ने अपने शोधग्रंथ को प्रकाशित कराने का निश्चय किया। इस संबंध में डॉ महेश तिवारी ने अपने शोधप्रबंध के आमुख में लिखा है कि -‘‘जनवरी, 2013 में मैं उनसे (डॉ. शिवकुमार मिश्र से) मिलने के लिए वल्लभ विद्यानगर, आनंद, गुजरात गया तो उस समय भी यह बात चली। इस बार उनकी बात मान कर मैंने सागर पहुंचते ही शोध प्रबंध उनके पास भेज दिया। फिर उन्होंने शोध प्रबंध को पुस्तक का रूप् देने की जिम्मेदारी अपने परम सहयोगी डॉ योगेन्द्र नाथ मिश्र को सौंप दी। परन्तु 21 जून 2013 को विधाता ने उन्हें सदा के लिए हमसे छीन लिया। इस आघात से उबरने के बाद योगेन्द्रनाथ जी ने यह काम शुरू किया। उन्होंने यथावश्यक थोड़ा काट-छांट करके मेरे शोध प्रबंध को पुसतक का रूप दिया।’’ अपने प्रिय गुरू को खोने के बाद डॉ. तिवारी का शोधग्रंथ प्रकाशित हुआ जिस संबंध में उन्हें सदा यह पीड़ा सालती रहती है कि वे पुस्तक के रूप में प्रकाशित अपने शोधग्रंथ को अपने गुरू के चरणों में नहीं रख पाए।

उल्लेखनीय है कि डॉ. महेश तिवारी उस परिवार से संबंध रखते हैं जो देवल चौरी गांव में विगत लगभग 114 वर्षों से रामलीला का आयोजन कर रहा है। यह रामलीला हर साल वसंत पंचमी से शुरू होकर करीब एक सप्ताह तक चलती है। डॉ महेश तिवारी के पूर्वज स्व. छोटे लाल तिवारी ने गांव में रामलीला की शुरुआत की थी। इन्हें पास के पड़रई गांव से इसकी प्ररेणा मिली थी। वे खुद व्यास गादी पर बैठ हारमोनियम बजाते व कार्यक्रम का संपूर्ण संचालन करते थे। रामलीला में शुरू से ही स्थानीय कलाकार काम करते आ रहे है। कार्यक्रम शुरू होने के एक महीने पहले से सभी कलाकार रामलीला के किरदारों का अभिनय करते हैं। दादाजी का स्वर्गवास होने के बाद स्व. ओंकार प्रसाद तिवारी, इसके बाद भगवत शरण और रमेश कुमार और इनके बाद हम सभी परिवार के लोग रामलीला का संचालन कर रहे हैं। इस आयोजन का एक दिलचस्प पहलू यह भी है कि वर्तमान में जनक और परशुराम का अभिनय करने सहित अन्य रामलीला के प्रमुख कार्यों का संचालन करने वाले भारत भूषण तिवारी ने सन् 1990 में सिविल से बीई की थी। इसके बाद कॉलेज में अध्यापन कार्य भी किया। लेकिन उन्हें रामलीला के लिए कॉलेज से पर्याप्त छुट्टी नहीं मिल पाती थी। इसलिए भगवान श्रीराम का नाम लेकर नौकरी ही छोड़ दी और पूरी तरह से रामलीला के आयोजन के प्रति समर्पित हो गए। डॉ. महेश तिवारी अपने गांव की इस परम्परा पर गर्व करते है और मानते हैं कि यदि परम्पराओं का लोकमंगल के लिए पालन किया जाए तो उनकी सार्थकता बनी रहती है।
लोकमांगलिक पारिवारिक परम्पराओं के धनी डॉ. महेश तिवारी सागर नगर के उन समीक्षकों में से एक हैं जो काव्य की समीक्षा को यथार्थ और कल्पना दोनों आधार पर एक साथ आकलन करने को उत्तम विधि मानते हुए युवा समीक्षकों का पथप्रदर्शन करने की क्षमता रखते हैं।
आज जब यह अकसर चिन्ता प्रकट की जाती है कि काव्य की शैलियों में जिस तेजी से परिवर्तन हुए एवं आधुनिकता को कविता ने जिस तत्परता से अंगीकार किया उस गंभीरता से काव्य-समीक्षक सामने नहीं आए। खेमेबाजी ने भी समीक्षा की विधा को बहुत क्षति पहुंचाई और इसीलिए आज समीक्षकों का संकट और अधिक गहरा गया है। ऐसे समय में डॉ महेश तिवारी अपनी मौलिक समीक्षा दृष्टि के साथ सामने आकर एक आश्वस्ति की दिशा दिखाते प्रतीत होते हैं।            
                    -----------------------
(साप्ताहिक सागर झील दि. 10.04.2018)
#साप्ताहिक_सागर_झील #साहित्य_वर्षा #वर्षासिंह #मेरा_कॉलम #MyColumn #Varsha_Singh #Sahitya_Varsha #Sagar #Sagar_Jheel #Weekly

साहित्य वर्षा : 5 समसामयिक सरोकार के कवि रुद्र - डॉ. वर्षा सिंह

प्रिय मित्रों,
       स्थानीय साप्ताहिक समाचार पत्र "सागर झील" में प्रकाशित मेरा कॉलम "साहित्य वर्षा" । जिसकी पांचवीं कड़ी में पढ़िए मेरे शहर सागर के वरिष्ठ साहित्यकार टीकाराम त्रिपाठी 'रुद्र' पर केंद्रित आलेख -  "समसामयिक सरोकार के कवि रुद्र"।....  और जानिए मेरे शहर के साहित्यिक परिवेश को  ....

साहित्य वर्षा : 5
समसामयिक सरोकार के कवि "रुद्र"
                                                       - डाॅ. वर्षा सिंह
             ''चाहते हो उच्च मस्तक राष्ट्र का तुम
या कि जनकल्याण जो मस्तिष्क में ही अचानक तुम्हें कुछ कुरेदता है
देर क्यों है आज ही कर लो प्रतिज्ञा
हो रहा अपराध, जनहित की अवज्ञा
अन्यथा युग क्षम्य कर न पायेगा
बसूले  की धार को अजमायेगा'
       "तमाई" काव्य संग्रह में संग्रहीत कवि रुद्र की यह कविता राष्ट्र के प्रति समर्पण की उच्च भावनाओं को जागृत करने वाली है।
     कवि टीकाराम त्रिपाठी ‘रुद्र’ सागर के वरिष्ठ कवियों में एक ख्यात नाम हैं। 01 जुलाई 1957 को जन्में कवि ‘रुद्र’ तीन भाषाओं - हिन्दी, अंग्रेजी एवं संस्कृत में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त हैं। अध्यापन कार्य से जुड़े कवि ‘रुद्र’ विधि स्नातक (एल.एल.बी) भी हैं। इनके तीन काव्य संग्रह ‘तमाई’, ‘आर्तनाद’ एवं ‘मन्तव्य’ प्रकाशित हो चुके हैं। इन तीनों काव्य संग्रहों से कवि ‘रुद्र’ के काव्य संसार का परिचय मिलता है। विचारों से जनवादी रुझान और छंदमुक्त शैली उनकी कविताओं की विशेषता है। कवि ‘रुद्र’ की कविताओं में लोकधर्मिता सतत् प्रवाहमान है। वे अपनी कविताओं के माध्यम से अव्यवस्थाओं को ललकारते हैं और समाज के सबसे उपेक्षित तबके की पैरवी करते दिखाई देते हैं। वे कलुषित राजनीति पर चोट करते हैं। वे भ्रष्टाचारियों पर कटाक्ष करते हैं और विगत के दृष्टांत देते हुए आगत के सुधरने का आह्वान करते हैं।
स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद जिस प्रकार राजनीतिक मूल्यों में निरंतर गिरावट आई है, उस पर दृष्टिपात करते हुए कवि ने अपनी कविता ‘विकास के आयाम’ में लिखा है-
‘संसद बन गई है, वाजिद अली शाह का दरबार
जहां से राज्यों में
राग-दरबारी का आयात हो रहा है।’
कवि ने इस ओर भी संकेत किया है कि जिस प्रकार अंग्रेजों के समय में फूट डालो राज करो की नीति अपनाई गई उसी प्रकार आज भी रातनीतिक लाभों के लिए आर्थिक और जातिगत वर्गभेद का पोषण किया जाता है-
चर्चा बिना पैर के,
बहुत देर रात तक चली है
आखिर वह हमारी चार दीवारों की ओट में पली है।
सुबह हुई,
एक नई दीवार उठी,
एक आयत दो वर्गों में विभाजित हो गया,
वर्ग संघर्ष जारी है
क्या पता कुर्सी पर कब किसकी पारी है ?’
       आज आए दिन कर्जे से त्रस्त हो कर किसानों द्वारा अत्महत्या करना और बैंक घोटालों की खबरें पढ़ने को मिलती रहती हैं। इस दुरावस्था का आकलन कवि ने गोया एक दशक पहले ही कर लिया था। अपने प्रथम काव्य संग्रह ‘तमाई’ की पहली कविता में वे ये पंक्तियां लिखते हैं-
‘बैंक वाले गरीबों के बैल छुड़ाते हैं,
और अमीरों के अरबों के कर्ज को बताते हैं डूबंत खाता
यानी कि डेड अकाउंट
कैसे होगा यह सब बराबर।’
       अपनी कविताओं में छांदासिक प्रवाह को पिरोते हुए कवि ‘रुद्र’ ने आमजन की पीड़ा को बड़ी बारीकी से पिरोया है। ‘भारत उदित हो गया’ शीर्षक कविता की उनकी ये पंक्तियां देखिए-
‘पैरों में है फटी बिवाई, नहीं दिख सकी पीर पराई
बड़े खा रहे रोज मिठाई, छोटे तरसें आंख दिखाई
दरस-परस दुर्घटित हो गया, देखो भारत उदित हो गया।’
       कवि का मन इस बात को देख कर दुखी होता है कि देश का नागरिक आज भी भूख और गरीबी से जूझने को विवश हेै। इस त्रासद वातावरण को प्राचीन कथाओं के पात्रों की उपमाओं के साथ तुलना करते हुए इन शब्दों में सामने रखा है-
‘भूख से भूखे तृषित हैं नागरिकगण
आदमी के वेष में है छिपा रावण
महिष रक्तपान हो खाद्यान्न जिसका
कुम्भकर्णी युग बना काशी अभी भी।
वंदनाक्रम भी तरीका भी बदलता
सुन रहे सृजती विधा का स्वर बदलता
खो गए संदेश सुख, भगवत भजन अब
होलिका प्रहलाद की प्यासी अभी भी।’
      कवि ‘रुद्र’ समाज को कुरीतियों से मुक्त देखना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि दहेज जैसी कुप्रथायें खत्म कर दी जाएं-
‘मिसमिसी दंतावली की मत बनाओ
फिर किसी अनब्याहिता को मत सताओ
डावरी कस्टम खत्म कर यश कमाओ।’
      इस समय समूची दुनिया को जो संकट सबसे अधिक भयभीत कर रहा है वह है पर्यावरण असंतुलन, जिसका जिम्मेदार स्वयं मनुष्य है। वृक्षों की अंधाधुंध कटाई ने पर्यावरणीय तत्वों के संतुलन को बिगाड़ दिया है। ऋतुओं का क्रम बदलता जा रहा है और भूमि में जल स्तर घटता जा रहा है। अब तो यहां तक कहा जाने लगा है कि यदि तीसरा विश्वयुद्ध हुआ तो वह पानी के लिए होगा। इस विकट स्थिति से निपटने के लिए कवि ‘रुद्र’ इस प्रकार आग्रह करते हैं-
‘लोकमंगल के लिए हम भिड़ पड़े इस व्याकरण से
जगत की चिंता करें कुछ मित्र पर्यावरण से
कल तलक जो जिया हमने, आज उसको भूल जाएं
धरा को फिर हरा करके मृत्तिका का ऋण चुकाएं
पहन कर चूनरी धानी धरा के गीत गाएं हम।’
      ‘‘बीती बात बिसार के आगे की सुध लेय’’ का संदेश देती कवि टीकाराम त्रिपाठी ‘रुद्र’ की कविताएं बिगड़ी हुई परम्पराओं, सामाजिक दुरावस्थाओं और राजनीतिक कलुष का तर्पण करते हुए एक सुंदर भविष्य रचने का तीव्र आग्रह करती हैं। हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू एवं संस्कृत के शब्दों को अपनी काव्य पंक्तियों में सहजता से पिरोते हुए आम बोलचाल की भाषा को अपनाना कवि के कवित्व की विशेषता है। कवि टीकाराम त्रिपाठी ‘रुद्र’ सागर के काव्य जगत में एक अलग ही अध्याय गढ़ते दिखाई देते हैं।

      -----------------------
(साप्ताहिक सागर झील दि. 03.04.2018)
#साप्ताहिक_सागर_झील #साहित्य_वर्षा #वर्षासिंह #मेरा_कॉलम #MyColumn #Varsha_Singh #Sahitya_Varsha #Sagar #Sagar_Jheel #Weekly

Justice For Asifa

जघन्य कृत्य कर रहे, दरिंदगी दिखा रहे
हैं नहीं मनुष्य वे, धिक्कार उनके कर्म को
निरीह नन्हीं बालिका, दया ज़रा न कर सके
धिक्कार ऐसे मानवों, धिक्कार ऐसे धर्म को
😥 - डॉ. वर्षा सिंह

#JusticeForAsifa
#We_need_justice_for_Asifa
#Speak_about_ashifa

बुधवार, अप्रैल 11, 2018

तब न था मालूम ....

तब न था मालूम , ऐसे फ़ासले हो जाएंगे।💔
ज़ख़्म बीते दिन के सारे फिर हरे हो जाएंगे।❣
शाम आयेगी ज़ख़ीरा याद का लेकर यहां
ख़्वाब बुनने के नये फिर सिलसिले हो जाएंगे।💝
❤- डॉ. वर्षा सिंह

गुरुवार, मार्च 29, 2018

नन्हीं सी इस्माइल

भूली बिसरी याद जाग कर हलचल करती है दिल में
सूखा फूल मिला हो जैसे किसी पुराने नाविल में
एक हंसी दे जाता है और एक ख़ुशी ले जाता है
फ़र्क यही होता है जीवनदाता में और क़ातिल में
होना क्या था और हुआ क्या, भेद न मन कर पाता है
अर्थ बदल जाते हैं अक़्सर सपनों वाली झिलमिल में
यूं तो सूची बहुत बड़ी है, "लाइक" करने वालों की
लेकिन दोस्त वही सच्चा है काम जो आये  मुश्किल में
"वर्षा" नफरत के बदले में नफरत ही हासिल होती                               
छिपी हुई रहती है दुनिया नन्हीं सी इस्माइल में
- डॉ. वर्षा सिंह

HAPPY MAHAVIR JAYANTI

🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵
भगवान महावीर जयंती के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।
🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵
#MahavirJayanti
#MahaveerJayanti
#महावीर_जन्म_कल्याणक
#महावीर_जयंती