गुरुवार, नवंबर 14, 2019

बाल दिवस पर विशेष गीत ... ख़्वाब वही था नेहरू का - डॉ. वर्षा सिंह



ख़्वाब जो था बापू गांधी का
 ख़्वाब जो वल्लभभाई का
 ख़्वाब जो था बाबा साहेब का
    ख़्वाब वही था नेहरू का

ख़्वाब वही था नेहरू का
हां, ख़्वाब वही था नेहरू का

नाम जवाहरलाल
शख़्सियत से भी वे तेजस्वी थे
अतुल ऊर्जावान
विश्व की वे इक मानी हस्ती  थे

आज़ादी तो मिली
दर्द भी हमें मिला बंटवारे का
तब नेहरू ने मंत्र दिया था
सबको स्वयं सहारे का

अपने श्रम से तब मिल कर
इतिहास नया लिख डाला था
हमने नव-भारत का कर
निर्माण रचा उजियाला था

प्रगतिशील, औद्योगिक औ
वैज्ञानिक उन्नति के सपने
विकसित देश बने अपना
संकल्प उठाया था सबने

बांध भाखड़ा नांगल जैसे
बड़े-बड़े थर्मल पावर
बना आधुनिक भारत ऐसा
रही नहीं धरती बंजर

कृषि, उद्योग, स्वास्थ्य, शिक्षा का
क्षेत्र नहीं छूटा कोई
सुदृढ़ हुआ अपना भारत तो
ख़्वाब नहीं टूटा कोई

ख़्वाब जो था बापू गांधी का
 ख़्वाब जो वल्लभभाई का
 ख़्वाब जो था बाबा साहेब का
    ख़्वाब वही था नेहरू का

ख़्वाब वही था नेहरू का
हां, ख़्वाब वही था नेहरू का

बच्चों के वे प्रिय चाचा थे
माताओं के बेटे थे
बहनों के भ्राता स्नेही
सबके बड़े चहेते थे

सबकी अपनी अलग शख़्सियत
सबके अपने रूप अलग
समय, काल औ स्थितियों के
प्रति जो मानव रहे सजग

नाम उसी का जग में होता
जिसने जग को जीत लिया
जनहित में कर काम स्वयं को
सीमित रखना सीख लिया

ऐसे महापुरुष दुनिया में
रोज़ नहीं पैदा होते
जो होते हैं उनको खो कर
भी हम कभी नहीं खोते

याद रहेंगे चाचा नेहरू
और उनके सद्कर्म सभी
यह भारत की भूमि तो उनको
भूल सकेगी नहीं कभी

होता है मतभेद विचारों में
भारत हम सबका है
इसका हित सबसे पहले है
शेष गौण सब किस्सा है

एक ख़्वाब करने में पूरा
जन्म व्यर्थ हो जाता है
धन्य वही है जो ख़्वाबों को
सच की राह दिखाता है

ख़्वाब जो था बापू गांधी का
 ख़्वाब जो वल्लभभाई का
 ख़्वाब जो था बाबा साहेब का
    ख़्वाब वही था नेहरू का

ख़्वाब वही था नेहरू का
हां, ख़्वाब वही था नेहरू का

            ----------------


मेरे इस गीत को web magazine "युवा प्रवर्तक" के अंक दिनांक 14 नवम्बर 2019 में स्थान मिला है।
युवा प्रवर्तक के प्रति हार्दिक आभार 🙏
मित्रों, यदि आप चाहें तो पत्रिका में इसे इस Link पर भी पढ़ सकते हैं ...

http://yuvapravartak.com/?p=21153



http://yuvapravartak.com/?p=21153


बुधवार, नवंबर 06, 2019

"शख़्सियत" में मैं यानी डॉ. वर्षा सिंह

Dr. Varsha Singh

    जांजगीर, छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय एवं प्रतिष्ठित दैनिक समाचार पत्र "नवीन क़दम" में प्रकाशित होने वाले कॉलम "शख़्सियत" आज मेरे व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर केंद्रित है। आभारी हूं "नवीन क़दम"की।

"नवीन क़दम", दिनांक 06.11.2019 का अंक


इसे वेबसाइट  https://navinkadam.com/?p=6992 पर भी पढ़ा जा सकता है.....






शख्सियत : डॉ. वर्षा सिंह, देश की प्रतिष्ठित कवयित्री एवं गज़लकार


देश की प्रतिष्ठित कवयित्री एवं ग़ज़लकार डॉ. वर्षा सिंह कोई परिचय की मोहताज नहीं हैं। इन्होंने एमएससी (वनस्पति शास्त्र), बीएड तथा डॉक्टर ऑफ होम्योपैथी एण्ड मेडिसिन की उपाधि प्राप्त की है। वर्तमान में ये मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी लिमिटेड में अतिरिक्त कार्यालय सहायक श्रेणी-एक के पद पर कार्यरत हैं। डॉ. वर्षा सिंह के अब तक 5 ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं, जिनके नाम ‘सर्वहारा के लिए’, ‘वक़्त पढ़ रहा है’, ‘हम जहां पर हैं’, ‘सच तो ये है’  और ‘दिल बंजारा’ है। इनकी एक आलोचना पुस्तक – ‘हिन्दी ग़ज़ल : ‘दशा और दिशा’ तथा नवसाक्षरों के लिए दो पुस्तकें- ‘पानी है अनमोल’ तथा ‘कामकाजी महिलाओं के सुरक्षा अधिकार’ प्रकाशित हो चुकी है। साथ ही पचास से अधिक समवेत ग़ज़ल संकलनों में ग़ज़लें संकलित हैं।
दैनिक नवीन कदम से विशेष बातचीत के दौरान डॉ. वर्षा सिंह ने बताया कि इन दिनों इनका कॉलम ‘सागर : साहित्य एवं चिंतन’ दैनिक ‘आचरण’ में तथा ‘साहित्य वर्षा’ साप्ताहिक सागर झील में प्रकाशित हो रहा है। आगे बताया कि वे जबलपुर से प्रकाशित अनियतकालीन साहित्यिक पत्रिका ‘परिवर्तन‘ का कार्यकारी संपादन कर चुकी हैं तथा मध्यप्रदेश राज्य विद्युत मण्डल हिन्दी परिषद् (बीना इकाई) की पत्रिका ‘विद्युत पुष्प’ का अतिथि संपादक रह चुकी हैं। इनकी रचनाओं का दूरदर्शन एवं आकाशवाणी के भोपाल, छतरपुर, सागर केन्द्रों से नियमित प्रसारण होता रहता है तथा वे अनेक अकादमिक साहित्यिक मंचों एवं कवि सम्मेलनों में काव्य पाठ करती रहती हैं।

चर्चा में आगे बताया कि साहित्य सेवा के लिए इन्हें देश के अनेक प्रतिष्ठित सम्मानों से नवाज़ा गया है, जिनमें मध्यप्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन सागर द्वारा ‘सुधारानी डालचंद जैन’ सम्मान, बुंदेली लोककला संस्थान झांसी (उत्तरप्रदेश) द्वारा ‘गुरदी देवी स्मृति सम्मान’, केन्द्रीय हिन्दी परिषद् मध्यप्रदेश राज्य विद्युत मण्डल जबलपुर द्वारा ‘विशिष्ट हिन्दी सेवी सम्मान’,  केन्द्रीय हिन्दी परिषद् पाथेय संस्था जबलपुर द्वारा ‘हिन्दी सेवी सम्मान’, प्रगतिशील लेखक संध, पन्ना द्वारा ‘सृजनधर्मी सम्मान’, हिन्दी परिषद् (बीना शाखा) मध्यप्रदेश राज्य विद्युत मण्डल बीना द्वारा ‘हिन्दी शिरोमणि’ सम्मान’,  राजभाषा परिषद् भारतीय स्टेट बैंक सागर शाखा द्वारा  ‘उत्कृष्ट साहित्य सृजनकर्ता सम्मान’, जनपरिषद् भोपाल द्वारा ‘लीडिंग लेडी ऑफ मध्यप्रदेश’ सम्मान, सागर नगर विधायक शैलेन्द्र जैन द्वारा  ‘शक्ति सम्मान’, पत्रिका समाचारपत्र एवं सेंट्रल हीरो सागर द्वारा ‘नारी सशक्तिकरण सम्मान’, हिन्दी लेखिका संघ दमोह द्वारा ‘विशिष्ट हिन्दी सेवी सम्मान’, हिन्दी लेखिका संघ सागर द्वारा ‘विशिष्ट हिन्दी सेवी सम्मान’, दैनिक भास्कर एवं राहगीरी सोशल ग्रुप सागर द्वारा ‘विशिष्ट अतिथि सम्मान’, सागर साहित्य एवं सामाजिक सम्मान समारोह 2013  सागर द्वारा  ‘विशिष्ट हिन्दी सेवी सम्मान’, रोटरी क्लब सागर सेंट्रल सागर द्वारा ‘क्षमावाणी महापर्व सौजन्य सम्मान’, क्षत्रिय समाज सागर द्वारा ‘विशिष्ट सम्मान’,  श्रीमंत सेठ दादा डालचंद जैन की स्मृति में ‘प्रतिभा सम्मान 2018’ एवं सागर टीवी न्यूज द्वारा ‘एक्सीलेंस अवार्ड फॉर क्रिएटर्स 2018’ प्रमुख हैं।
डॉ. वर्षा सिंह ने आगे बताया कि वे गीत, ग़ज़ल, दोहा, अतुकांत कविता साथ ही आलोचना एवं समीक्षा लेख, चिंतन आलेख, ललित  निबंध आदि भी लिखती हैं। इन्होंने बुंदेली में भी पद्य रचनाएं लिखी हैं। उन्होंने कहा कि यूं तो पिछले अनेक वर्ष से मैं हिंदी गजल लिख रही हूं। अभी तक मेरे 5 हिंदी गजल संग्रह प्रकाशित भी हो चुके हैं, किंतु आजीविका की व्यस्तता के चलते नये संग्रह के प्रकाशन में व्यवधान आया, लेकिन लेखन ज़ारी रहा। सोशल मीडिया पर भी सतत रूप से मैं अपनी गजलों देती रही हूं। मेरी ग़ज़लें पर ख्यातनाम समीक्षकों ने समय-समय पर टिप्पणियां की हैं। 

मेरी ग़ज़ल पर टिप्पणी करते हुए कवि एवं साहित्यकार अनिल प्रभाकर कहते हैं कि जनपक्षधरता वर्षा सिंह की खास पहचान है। शायरा का अनुभवसंसार भी व्यापक है, इसलिए इनकी ग़ज़लें सिर्फ आधी आबादी तक ही सीमित नहीं है बल्कि, पूरा समाज है इनकी ग़ज़लों में, पूरी दुनिया और पूरा आसमान है इनकी ग़ज़लों में। नरेंद्र कुमार सिंह ने टिप्पणी करते हुए कहा है कि  वर्षा सिंह हिंदी गजल विधा की एक चर्चित हस्ताक्षर है और इन दिनों काफी अच्छी हिंदी ग़ज़लें लिख ही नहीं रही हैं। बल्कि, पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से छप भी रही हैं। वर्षा सिंह की प्रत्येक गजल आज की परिस्थिति को यथार्थवादिता के साथ प्रदर्शित करने में सक्षम है। इसी क्रम में ऋषभ देव शर्मा ने अपनी टिप्पणी करते हुए कहा है कि वर्षा सिंह समकालीन हिंदी गजल के क्षेत्र में तेजी से उभरा हुआ हस्ताक्षर हैं। उन्होंने वस्तु और शैली दोनों ही स्तरों पर गजल को समृद्ध बनाया है तथा दुष्यंत कुमार की परंपरा में नई ग़ज़ल भाषा इजाद करने वाली कवयित्री के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त की है। डॉ. वर्षा सिंह का कहना है कि अपने ग़ज़ल लेखन पर उनके खुद के विचार भी हैं, जिसके मुताबिक, हिंदी पद्य साहित्य की एक अनन्यतम मनोहारी छवि वाली विधा बन कर उभरी। इस हिंदी गजल की विधा को अपनाकर मुझे बेहद आत्मसंतोष मिला और लगातार संघर्षरत जीवन जीते हुए चिंतन एवं संवेदनाओं के गहरे तालमेल से जन्मे अपने विचारों को मैंने हिंदी ग़ज़ल के माध्यम से अभिव्यक्त किया है। इनका मानना है कि पूरी निष्ठा और शिद्दत से कोई भी काम करें तो निश्चित तौर पर कामयाबी मिलती है।
https://navinkadam.com/?p=6992


सोमवार, नवंबर 04, 2019

"साहित्य आजतक 2019" के मंच पर डॉ (सुश्री) शरद सिंह


"साहित्य आजतक 2019" के मंच पर डॉ (सुश्री) शरद सिंह

 Congratulations Sharad Singh My Sis 💐💐💐💐💐

   मेरी बहन और देश की सुनाम साहित्यकार एवं लेखिका डॉ (सुश्री) शरद सिंह ने दिनांक 3 नवंबर को राजधानी दिल्ली के जनपथ स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में लगे  लिटरेचर फेस्टिवल "साहित्य आजतक 2019" के मंच पर "साहित्य की बेड़ियां" विषय पर अपने विचार उपस्थित सुधीजनों एवं श्रोताओं के समक्ष रखे। साहित्य आज तक के मंच पर इस खास सत्र "साहित्य की बेड़ियां" में लेखिका शरद सिंह  के साथ भगवान दास मोरवाल, निर्मला भुराड़िया भी शामिल हुए। इन लेखकों ने बताया कि मौजूदा समय में साहित्य की स्थिति कैसी है. एक लेखक किन मजबूरियों में जकड़ा हुआ है और क्यों वो खुलकर नहीं लिख पा रहा है। इसी के साथ भगवान दास की सातवीं किताब "वंचना" का विमोचन भी किया।





















    "आजतक" चैनल के प्रतिष्ठित लिटरेचर फेस्टिवल के 1नवंबर से शुरू हुए इस तीन दिवसीय आयोजन में  हिंदी साहित्य जगत के सुनाम दिग्गजों सहित कला, साहित्य, संगीत, संस्कृति और किताबों से जुड़ी अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की अनेक शख्सियतों ने शिरकत किया। वर्ष 2016 में पहली बार 'साहित्य आजतक' की शुरुआत हुई थी। "साहित्य आजतक" कार्यक्रम के आयोजन का यह चौथा साल रहा।

Please see Video.....


https://m.aajtak.in/sahitya-aaj-tak-videos/video/sahitya-aajtak-2019-bhagwandas-morwal-sharad-singh-nirmala-bhuradia-talk-about-restrictions-on-writers-1134576-2019-11-04

#SahityaAajtak19
#aajtak #IndiaToday
#IndiaTodayHINDI
#साहित्य_आजतक
#साहित्यआजतक19

शुक्रवार, अक्तूबर 25, 2019

धनवन्तरी की अर्चना.... धनतेरस पर हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ. वर्षा सिंह

Dr. Varsha Singh


धनतेरस दिनांक 25.10.2019 पर विशेष
धनवन्तरी की अर्चना

                 - डॉ. वर्षा सिंह

रश्मि की मंजुल कलाएं, ज्योति के त्यौहार में जगमगाती तारिकाएं, ज्योति के त्यौहार में 

स्वास्थ्य-सुख की कामना,  धनवन्तरी की अर्चना
आरती करती दिशाएं, ज्योति के त्यौहार में 

दीप माटी के सजे, फिर आ रही दीपावली
गूंजती पावन ऋचाएं, ज्योति के त्यौहार में 

प्रकृति का श्रंगार, स्वर्णिम हार, नख-शिख आभरण
मुग्ध बेसुध व्यंजनाएं, ज्योति के त्यौहार में 

हासमय उल्लास, कातिक मास, मंगल कामना
नेह सिंचित भावनाएं, ज्योति के त्यौहार में 

धूप, अक्षत, पान, सुख का गान, आंगन-द्वार पर
इंद्रधनुषी अल्पनाएं, ज्योति के त्यौहार में

रूप की "वर्षा", नई आशा, नए संकल्प से
झूमती नव वर्तिकाएं, ज्योति के त्यौहार में
        -----------------------



       मेरी इस ग़ज़ल को धनतेरस के अवसर पर web magazine युवा प्रवर्तक के अंक दिनांक 25 अक्टूबर 2019 में स्थान मिला है।
        युवा प्रवर्तक के प्रति हार्दिक आभार 🙏
       मित्रों, यदि आप चाहें तो पत्रिका में इसे इस Link पर भी पढ़ सकते हैं ...
http://yuvapravartak.com/?p=20746





बुधवार, अक्तूबर 16, 2019

करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ. वर्षा सिंह

Dr. Varsha Singh

करवा चौथ दिनांक 17.10.2019 पर विशेष

सुहागिन बहनों के प्रति शुभकामना

                  - डॉ. वर्षा सिंह

दे  रहा  मन  हो  विह्वल, शुभकामना।
नित खिले सुख का कमल, शुभकामना।

दिन  वसंती  हों, निशा  हेमंतिनी 
सांझ  बरसे  नेह-जल, शुभकामना।

आज के  सपने  सभी साकार हों
और बिखरे हास कल, शुभकामना।

हर्ष  की, उल्लास की  गाथा  गढ़े 
आयु का हर एक पल, शुभकामना।

इंद्रधनुषी  अल्पनाओं  से सजे 
कल्पनाओं  का महल, शुभकामना।

तुम  जहां  हो रोशनी भी हो वहां 
दे  रही  आंखें  सजल, शुभकामना।

भावनाओं के शिखर को चूम कर 
कह रही है यह ग़ज़ल, शुभकामना।

सिर्फ़  छूने  से बने  अमृत कलश 
हर निराशा  का गरल, शुभकामना।

मन की अभिलाषा सदा साकार हो
हर कदम पर हों सफल, शुभकामना।

ज्योत्सना बिखरे सदा सुख शांति की 
है  यही  निर्मल- धवल, शुभकामना।

मांग में  सौभाग्य  की  दें  लालिमा
चंद्र की  किरणें  चपल, शुभकामना।

नित्य "वर्षा"  हो  सरस आल्हाद की 
पल्लवित हो नित नवल, शुभकामना।

        -----------------------
 करवा चौथ पर्व के अवसर पर सृजित मेरी इस ग़ज़ल को web magazine युवा प्रवर्तक के अंक दिनांक 17 अक्टूबर 2019 में स्थान मिला है।
युवा प्रवर्तक के प्रति हार्दिक आभार 🙏
मित्रों, यदि आप चाहें तो पत्रिका में इसे इस Link पर भी पढ़ सकते हैं ...
http://yuvapravartak.com/?p=20272

करवा चौथ की काव्यात्मक शुभकामनाएं - डॉ. वर्षा सिंह

मंगलवार, अक्तूबर 08, 2019

🚩विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं 🚩- डॉ. वर्षा सिंह


          बुराई पर अच्छाई और अधर्म पर धर्म की विजय के महापर्व विजयादशमी की सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🌺🙏

                    🚩🔴🌺🙏🌺🔴🚩
        शारदीय नवरात्रि के नौ दिन दुर्गा पूजा के उपरांत दसवें दिन मनाई जाने वाली विजयादशमी अभिमान,अत्याचार एवं बुराई पर सत्य,धर्म और अच्छाई की विजय का प्रतीक है।
दशहरा दस पापों को हरनेवाला, दस शक्तियों को विकसित करनेवाला, दसों दिशाओं में मंगल करनेवाला और दस प्रकार की विजय देनेवाला पर्व है, इसलिए इसे ‘विजयादशमी’ भी कहते हैं ।

विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं - डॉ. वर्षा सिंह

      विजयादशमी को जीत का पर्व भी कहते हैं। रावण से जीतने हेतु श्रीराम ने भगवती दुर्गा की 9 दिन आराधना की थी और उनके आशीर्वाद से दसवें दिन रावण का वध किया था, इसलिये इसे विजयादशमी के रूप में मनाते हैं।
                      🚩🔴🌺🙏🌺🔴🚩
       जब जब संसार मे असत्य अन्याय होता है तब तब कोई दैवीय शक्ति असत्य व अन्याय का अंत करती है। रावण अन्यायकारी था व श्रीरामजी मानवता कल्याणप्रिय थे। इनके युद्ध में श्रीराम जी की जीत हुई। यानी विजयादशमी प्रतीक है अन्याय पर न्याय की जीत का।
                      🚩🔴🌺🙏🌺🔴🚩
 #विजयादशमी
#VijayaDashami