शुक्रवार, अप्रैल 29, 2011

प्यार का सच है यही.....


131 टिप्‍पणियां:

  1. एक - एक शब्द प्यार के अहसासों से सराबोर कर देने वाला ......सच में यह अहसास ऐसा है जिसे कभी भी खुद से जुदा नहीं किया जा सकता ..और आपकी रचना इसकी सार्थकता को दर्शाती है .....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. केवल राम जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर पंक्तियाँ...बहुत खुबसुरत प्रेम भाव..शानदार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यशवन्त माथुर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा ग़ीत पसन्द आया....
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Er. सत्यम शिवम जी,
    आपने मेरे ग़ीत को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार का सच है यही कैसे इसे झूठलाओगे...

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति. आभार सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  7. हर जगह मुझे पाओगे ....बहुत खूबसूरत भावों से सजी सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम रस में सराबोर..........बहुत ही मनमोहक , सुन्दर गीत

    उत्तर देंहटाएं
  9. आईना देखोगे छवि मेरी ही आएगी नज़र,
    ज़िन्दगी का यूँ अकेले काट न पायेगा सफ़र,
    प्यार का सच है यही कैसे इसे झुठलाओगे!
    वाह डा. वर्षा जी, हर पंक्ति हृदय के तार को स्पंदित कर रही है ! सुन्दर गीत के लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. @वर्षा जी ,बहुत सुन्दर लिखा है आपने .....जाइये आप कहां जायेंगे .....

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (30.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  12. आइना देखो,
    छवि मेरी ही आएगी नजर.

    क्या बात है.. बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! सुन्दर कविता. इसे पढ़कर वो गाना याद आ गया.....
    'अजी रूठकर अब कहाँ जाईएगा.........'

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्यार का सच है यही .........क्या बात है बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्यार के सच की सच्ची अभिव्यक्ति...... बहुत ही सुंदर गीत

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुशील बाकलीवाल जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  17. संगीता स्वरुप जी,
    हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ता है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    हार्दिक धन्यवाद! कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. देवेन्द्र जी,
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।
    आपने मेरे गीत को पसन्द किया आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  21. निवेदिता जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुमन जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  23. Er. सत्यम शिवम जी,
    आपने शनिवार (30.04.2011) के "चर्चा मंच" हेतु मेरे गीत का चयन किया......
    आपके इस अनुग्रह के लिए आपको यदि शुक्रिया मात्र कहूं तो वह नाकाफी रहेगा। बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपकी संपूर्ण रचना बहुत अच्छी है , लेकिन अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही प्रभावशाली हैं, जान डाल देती हैं, रचना में ...
    शानदार अभिव्यक्ति के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  25. महेन्द्र जी,
    हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  26. 'साहिल' जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे शायर...साहित्यकार की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुनील कुमार जी,
    हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  28. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  29. रोशी जी,
    आपने मेरे ग़ीत को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  30. मदन शर्मा जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर रचना.
    बहुत बढ़िया लिखती हैं आप.
    ढेरों शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  32. हर जगह मुझे ही पाओगे ...
    प्यार का यह सच कैसे झुठलाया जा सकेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुंदर शब्द और संवेदना जब छंद में ढल जायें तो सुंदर गीत लिख उठते है और आपको इसमें महारत हासिल है |बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  34. sunder sijan ,sarthak prayan , man ko gatiman karate huye bhav .shukriya ji.

    उत्तर देंहटाएं
  35. सहज भाव और ज़बरदस्त सम्प्रेषण क्षमता है इस कविता में.
    वाह वर्षा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  36. सुँदर भाव प्रवण गीत . प्रेम ही सत्य है . आभार

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत खूब .. सच कहा गुज़रे लम्हे साथ नही छोड़ते है .... जीवन के साथ साथ चलते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. विशाल जी,
    आपकी स्नेहयुक्त टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  39. वाणी गीत जी,
    हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  40. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    अत्यंत आभारी हूं मैं....आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह दुगना कर दिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  41. उदयवीर सिंह जी,
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदैव स्वागत है।
    आपने मेरे गीत को पसन्द किया.... आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  42. कुंवर कुसुमेश जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा ग़ीत पसन्द आया....
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  43. आशीष जी,
    आपने मेरे ग़ीत को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  44. दिगम्बर नासवा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  45. Amit Shrivastav Ji,
    Thank you for visiting my blog!
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  46. संजय कुमार चौरसिया जी,
    आपने मेरे ग़ीत को पसन्द किया...हृदय से आभारी हूं.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  47. वर्षा जी नमस्ते!
    कितना सही कहा आपने....यादों को भी कोई झुठला सकता है भला!

    उत्तर देंहटाएं
  48. आदरणीय वर्षा जी,
    आपकी कविता के हर अल्फाज अपनी समग्रता में परिपूर्ण हैं।यादें ही तो हमारे जीवन की अमूल्य धरोहर हैं। इनके सहारे ही हम जीवन के कितने दुखद पल भी आसानी से भुला जाते हैं।प्रणय गंधी यादें जब मन को आंदोलित करने लगती हैं तो बस एक सुखद अवसाद ही संतोष करा देता है एव हृदय से निकल उठती है एक आवाज-

    "हांलाकि तुम भी राहे मुहब्बत में साथ थे,
    इल्जाम तो तमाम हमारे सर ही गए।"
    धन्यवाद।
    मेरे पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  49. dhoop varshaa khshboo havaa ,sabme hamen paaoge ...
    Maanini raadhaabhaav liye hai kavitaa .sundar ,manohar ,bharosaa paidaa karne vaali .....
    veerubhai

    उत्तर देंहटाएं
  50. पूज्य स्व.श्यामाचरणसिंह जी को नमन.यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आप उनकी नातिन हैं.पिताजी के निधन के समय मेरी उम्र मात्र तेरह वर्ष की थी.शिक्षा पूर्ण करने के पश्यात जीविकोपार्जन की आपाधापी में उलझा रहा.वर्ष २००० में पिताजी की प्रतिनिधि कविताओं की एक पुस्तक "बहुजन हिताय-बहुजन सुखाय"प्रकाशित की ,जिसमें उनकी हिंदी,छत्तीसगढ़ी और बाल-कवितायेँ संग्रहित हैं .अब इन्टरनेट के सियानी गोठ(www.gharhare.blogspot.com) में उनके काव्य को संचित करने का प्रयास कर रहा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  51. आपके ब्लॉग में आपकी रचनाएँ पढ़ीं.कवितायेँ बहुत ही भाव प्रवण हैं.अत्यंत ही कोमल भावनाओं को सरल शब्दों में उकेरा गया है.प्रसन्नता की बात है कि छंद-बद्ध हैं.परम्परागत तरीके से भावों को पिरोकर तुकांत और छंद बद्ध कविता लिखना अत्यंत ही कठिन कार्य है.इस परम्परा को बनाये रखिये.

    उत्तर देंहटाएं
  52. मेरी हिंदी कवितायेँ /रचनाएँ (mitanigoth2.blogspot.com) पर उपलब्ध हैं.सुखद संजोग यह भी कि मेरी जीवन संगनी श्रीमती सपना निगम छत्तीसगढ़ी में कवितायेँ/गीत लिखती हैं.उनका ब्लॉग "मितानी गोठ"(mitanigoth.blogspot.com) है.आशा है कि आप हमारे परिवार के तीनों ब्लॉग में आकर हमारा उत्साहवर्द्धन नियमित रूप से करेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  53. प्रदीप जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  54. प्रेम सरोवर जी,
    आपने मेरी कविता को सराहा....यह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है.
    अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  55. वीरू भाई जी,
    आपकी टिप्पणी ने मेरा उत्साहवर्द्धन किया है, जिसके लिए मैं अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  56. रश्मि प्रभा जी,
    आप जैसी सुकवयित्री की टिप्पणी मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  57. अरुण कुमार निगम जी,
    आप से बहुत पुराना परिचय प्राप्त कर मुझे भी अत्यंत प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है. आपके तीनों ब्लॉग्स में जा रही हूं.
    आपने मेरे गीत को सराहा....इसके लिए अत्यंत आभारी हूं मैं आपकी.
    हार्दिक धन्यवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  58. मीनाक्षी पंत जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  59. सदा जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  60. चित्र और कविताओं से सुन्‍दर ब्‍लॉग प्रस्‍तुति.
    डॉ.वर्षा सिंह जी संभव हो तो इन कविताओं को चित्रों के अतिरिक्‍त यूनिकोड फोंट के टेक्‍स्‍ट में भी प्रस्‍तुत करें ताकि हमारे जैसे मोबाईल और फीड़ से ब्‍लॉग पढ़ने वाले हजारों लोगों को पढ़ने में सुविधा होगी.

    उत्तर देंहटाएं
  61. मेरी यादों से भला तुम दूर कैसे जाओगे..

    सच ही तो कहा आपने .. जो दिल में बस जाता है उसकी यादें अंतिम सांस तक साथ नहीं छोडती...

    बहुत ही सुन्दर

    कभी हमारे ब्लॉग भी आये नया हूँ

    avinash001.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  62. संजीव तिवारी जी,
    आपका सुझाव अच्छा है। हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  63. अविनाश मिश्र जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  64. विवेक जैन जी,
    हार्दिक धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  65. अनामिका जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....
    कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  66. आपके गीत न केवल भाव प्रधान होते हैं वरन लय मात्रा तक में सुगढ़ ता वाह. ई-मेल हो तो मुझे दीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  67. aapka har geet dil ko chhoo leta hai. adbhut hai yah bhi...gunguna raha hoo ise...

    उत्तर देंहटाएं
  68. वर्षा जी , बहुत ही सुन्दर गीत है।

    उत्तर देंहटाएं
  69. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    मेरे इस ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  70. सहज अभिव्यक्ति ,सुन्दर रचना | बधाई |
    rastogi.jagranjunction.com
    drmanojrastogi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  71. गिरीश मुकुल जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  72. गिरीश पंकज जी,
    आपने मेरा गीत गुनगुनाया ....तो मेरा लेखन सार्थक हो गया.
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  73. डॉ॰ दिव्या जी,
    मेरे गीत पर अपने विचार प्रकट करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  74. उर्मि चक्रवर्ती जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  75. ज्योति सिंह जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  76. डॉ॰ मनोज रस्तोगी जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  77. sunder bhavon se saji anmol rachna
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  78. प्यार का सच रोज़ बदल जाता है .एक वक्त था आज के नाम -वर ब्लोगियों की रचनाएं भी खेद सहित लौटा देते थे ।
    अब निश्शुल्क सामिग्री अखबार "ब्लॉग "से उठा लेतें हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  79. that was really superb poem
    super like
    http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  80. रचना जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  81. वीरू भाई जी,
    सही कहा आपने। समय के साथ-साथ बहुत सारी चीजें बदल जाती हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  82. चिराग जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  83. मन के भा्वों की सुन्दर अभिव्यक्ति है । आप मेरे ब्लांग मे आई , मेरा उत्साह बढ़ाया धन्यवाद । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  84. श्रीमान जी,क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है.मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

    उत्तर देंहटाएं
  85. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  86. पर्थ में कुछ सब्जियां जैसे कुंदरू, करेला, भिन्डी ये पेकेट में फ्रोज़ेन मिलते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  87. How can someone forget the flower's incense,rain and sun. One can find them everywhere. True, such is the nice flavour of your poetry! Keep that great work going...accept my best wishes.

    उत्तर देंहटाएं
  88. आप की रचना पढ कर एक शेर याद आ गया

    एक बार चाहा था अक्ल ने तुझ को भुलाना
    सौ बार जुनूं ने फ़िर तेरी तस्वीर दिखा दी

    उत्तर देंहटाएं
  89. प्यार का सच वास्तव में सच है.इसे झूंठलाना मुमकिन नहीं है.
    आपकी सुन्दर प्रस्तुति दिल को छूती है.
    देर से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ.
    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.आप भी काफी समय से नहीं आयीं हैं.
    कुछ समय निकालिएगा ,प्लीज.

    उत्तर देंहटाएं
  90. ऐसी खूबसूरत इबारत
    जब यादों में समाईं हों , तो कोई कैसे
    भूल पाएगा भला ....
    यादों के सिलसिले को हर मन में
    बसा पाने में सक्षम रचना .... वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  91. महेश्वरी कनेरी जी,
    आप स्वयं सुकवयित्री हैं...मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद...
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  92. रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक आभार...
    आशा करती हूं कि मेरे गीत पर भी अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने का कष्ट करेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  93. Minakshi Pant ji,
    Thank you for visiting my blog!
    Happy mothers day you too.
    You're always welcome on my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  94. उर्मि चक्रवर्ती जी,
    यह तो बहुत अच्छी बात है.
    जानकारी देने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  95. शिखा कौशिक जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  96. अश्विनी रॉय 'प्रखर' जी,
    It's a pleasure to have you on my blog. regards.
    Always welcome your comments on my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  97. मोहिन्दर कुमार जी,
    बहुत अच्छा शेर कहा है आपने...शुक्रिया.
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  98. राकेश कुमार जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  99. दानिश जी,
    आपने मेरे गीत पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है इस हेतु मैं आपकी आभारी हूं.
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  100. अति सुन्दर---
    " प्रीति में है बडी गहराई
    प्रियतम की आस जब मन में समाई
    दूर हो या पास
    मन लेता है अंगडाई..."

    --- मैं कहूंगा कि...इतने गूढ, शायद विश्व के सबसे गूढ व महत्व पूर्ण विषय पर सरल, सहज़, सीधे सीधे सम्प्रेषणीय शब्दों मे --क्लिष्ट शब्दावली रहित--- लिखना श्लाघ्य है...बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  101. और कितना वक्त ब्लोगियों को यूं ही तड-पाओगे ,
    एक सुन्दर पोस्ट लेकर और कब तक आओगे .

    उत्तर देंहटाएं
  102. वर्षा जी
    आपने मेरी रचना को पसंद किया ,इसके लिए हार्दिक धन्यवाद. आपका उत्साहवर्धन मुझे नई स्फूर्ति देता रहेगा .आपकी रचनाएँ उच्च स्तर की हैं .बहुत दिनों से नई रचना का इन्तिज़ार है.हमारे पारिवारिक ब्लाग में आते जाते रहिएगा.अब तो आप परिवार की सदस्य ही लगती हैं.आपका हमेशा स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  103. कृपया मेरी भी कविता पढ़ें और अपनी राय दें..
    www.pradip13m.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  104. Veerubhai ji,
    Thanks for your hearty comments.Please wait.....

    उत्तर देंहटाएं
  105. सपना निगम जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.
    आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  106. ईं.प्रदीप कुमार साहनी जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है। जरूर...आपके ब्लाग पर जा रही हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  107. यही सच है ...शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  108. मेरे ब्लॉग पर आपका इंतजार है.
    आपको 'सरयू' स्नान का न्यौता है.
    मेरी कई पोस्ट्स आपका इंतजार कर रहीं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  109. बहुत सुन्दर और गहरी सोच! साधुवाद!

    "कुछ लोग असाध्य समझी जाने वाली बीमारी से भी बच जाते हैं और इसके बाद वे लम्बा और सुखी जीवन जीते हैं, जबकि अन्य अनेक लोग साधारण सी समझी जाने वाली बीमारियों से भी नहीं लड़ पाते और असमय प्राण त्यागकर अपने परिवार को मझधार में छोड़ जाते हैं! आखिर ऐसा क्यों?"

    यदि आप इस प्रकार के सवालों के उत्तर जानने में रूचि रखते हैं तो कृपया "वैज्ञानिक प्रार्थना" ब्लॉग पर आपका स्वागत है?

    उत्तर देंहटाएं
  110. समीरलाल जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  111. Jyoti Mishra Ji,
    Thank you for visiting my blog!
    It's pleasure to me . I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  112. सतीश सक्सेना जी,
    हार्दिक आभार...
    आशा करती हूं कि मेरे गीत पर इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराने का कष्ट करेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  113. राकेश कुमार जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है। जरूर...आपके ब्लाग पर जा रही हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  114. वैज्ञानिक प्रार्थना,
    निमन्त्रित करने हेतु शुक्रिया.
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है! अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  115. good combination of reality and imagination.thanks for visiting my blog.

    उत्तर देंहटाएं