सोमवार, मार्च 12, 2012

अब न रोको ....


26 टिप्‍पणियां:

  1. इस बहाव को भला कौन रोक पाएगा .... खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ० वर्षा जी जितना सुन्दर गीत उतना सुन्दर चित्र किसे बधाई दिया जाय |आपकी कलम को और आपकी कल्पना को बधाई देना ठीक रहेगा |शुभ रात्रि |

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर गीत ...... सुन्दर चित्र .........खूबसूरत अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोमल अहसास से सजी सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  5. मिलन आस का वास हो, अंतर्मन में ख़ास ।

    सुध-बुध बिसरे तन-बदन, गुमते होश-हवाश ।

    गुमते होश-हवाश, पुलकती सारी देंही ।

    तीर भरे उच्छ्वास, ताकता परम सनेही ।

    वर्षा हो न जाय, भिगो दे पाथ रास का ।

    अब न मुझको रोक, चली ले मिलन आस का ।।



    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. चाहतों की राह सपनों की गली ,

    खिल रही है आज फिर कोई कली ,

    चली गोरी पी से मिलन को चली .......बेहतरीन भाव और रागात्मकता से संसिक्त सचित्र रचना .नशे के ऊपर नशा ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर...

    रूमानी एहसासों से भरी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत गीत... आपको शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सजी मँच पे चरफरी, चटक स्वाद की चाट |
    चटकारे ले लो तनिक, रविकर जोहे बाट ||

    बुधवारीय चर्चा-मँच
    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बेहतरीन रचना....

    मेरे ब्लॉग
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुन्दर रचना के साथ सुन्दर चित्र

    उत्तर देंहटाएं
  12. अति सुंदर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  13. मिलन की प्रबल आस , बाधा विविध को पार करके . सुँदर गीत .

    उत्तर देंहटाएं
  14. दूर एक दरिया बुलाता है ,मुझे ,

    और मुझसे ही मिलाता है ,मुझे .

    वाह क्या बात है .'खुद से खुद की मुलाकत हुई ,दिन बीता और रात हुई ',नहीं आये वो क्या बात हुई ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर चित्र/बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Ehsaas Ki Nagri me Khayaalon ko Gul
    Yun Khile Ki zazbaat banke kagaz ko mehka gaye...
    Kaun kehta hai kagaz ke phoolon Se khushbu nahi aati//shayad unhone aise khubsurat Gazal he nahi padhi ya suni

    उत्तर देंहटाएं
  17. namaskar Varsha Singh ji...
    plz add me in facebook...Apki rachanaye to mannko prafullit kar deti hai aur mantra mugh bhi...
    Utkarshmayi bhaasa aur Swayankarsh andaaz aur khoobsurat zazbaat ...bahut khoob
    myfriends1960@gmail.com is my fb id

    उत्तर देंहटाएं