बुधवार, अगस्त 31, 2011

खनकी हैं हाथों की चूड़ियां .....


129 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारे अहसासों की अभिव्यक्ति .....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोमल अहसासों का सुन्दर चित्रण , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यारे अहसासों की बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति
    ईद के त्योंहार की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बेहतरीन !!!!
    ईद के त्योंहार की हार्दिक शुभकामनायें.... हैप्पी ईद :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत नाज़ुक से भाव ... खत लिखते समय चूड़ियाँ उतार क्यों नहीं दीं? :):)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वर्षा जी मुग्धा नायिका आपके गीतों में अणु दर अणु गुंथी है .एक शब्द चित्र से आगे निकलके एक भाव चित्र ,एक मानसिक कुन्हासा प्रियतमा का मूर्त हो उठता है आपके गीतों में .
    नाट्य रूपांतरण किया है किरण बेदी ने .;

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर --
    प्रस्तुति |
    बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. केवल राम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुश्वंश जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.... कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  13. यशवन्त माथुर जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  15. संजय भास्कर जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद। हैप्पी ईद....

    उत्तर देंहटाएं
  16. संगीता स्वरुप जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  17. वीरूभाई जी,
    आप जैसे सुधी साहित्यकार की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  18. रविकर जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद। कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  19. वन्दना जी,
    आपकी इस उदारता ने मुझे भावविभोर कर दिया है.
    मेरे गीत को तेताला पर प्रस्तुत करने के लिए आपको अत्यंत विनम्रतापूर्वक मेरा नमन........

    उत्तर देंहटाएं
  20. वर्षा की ऋतु . छँई - छपाक में
    खत कैसे डालूँ मैं डाक में
    पग में मर्यादा की बेड़ियाँ......

    बहुत ही प्यारा और अल्हड़ सा गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  21. Er. सत्यम शिवम जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  22. अरुण कुमार निगम जी,
    मेरे गीत पर टिप्पणीस्वरुप लिखी आपकी पंक्तियों के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  23. वर्षा की ऋतु . छँई - छपाक में
    खत कैसे डालूँ मैं डाक में
    पग में मर्यादा की बेड़ियाँ.....वाह: क्या बात है .बहुत प्यारा और मन भावन सुन्दर रचना... ब्धाई..

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्छा लिखा है आपने जी.
    ग़ज़ब ढाने लगी हैं चूड़ियाँ भी.

    उत्तर देंहटाएं
  25. कमलेश खान सिंह डिसूजा जी,
    आपकी बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  26. माहेश्वरी कनेरी जी,
    आदरणीय अरुण कुमार निगम जी द्वारा मेरे गीत पर टिप्पणीस्वरुप लिखी गई पंक्तियों पर आपकी टिप्पणी के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुंवर कुसुमेश जी,
    अपने गीत पर आपकी प्रशंसात्मक टिप्पणी पा कर मन प्रफुल्लित हो गया.....बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  28. रश्मि प्रभा जी,
    आप जैसी विदुषी कवयित्री की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. आपको बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर और कोमल भाव के साथ बेहतरीन प्रस्तुती !
    आपको एवं आपके परिवार को ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  30. बबली जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद। कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।
    आपको एवं आपके परिवार को भी ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. कापी के अध पन्ने फाड़ कर चुपके से ,
    लिखने में ख़त अकसर ,
    खनकी हैं हाथों की चूड़ियाँ .
    अब इससे अनुपम भाव मुद्रा क्या होगी "मुग्धा की "?
    अनुपम बिम्ब पनडुब्बी सा मन में पैठता सा ...
    बुधवार, ३१ अगस्त २०११
    जब पड़ी फटकार ,करने लगे अन्ना अन्ना पुकार ....
    ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  32. आप बहुत खूबसूरत लिखती हैं.... और आप कि इस रचना को पढ़कर लगा मानो जैसे collage के दिन आँखों के सामने से गुज़र रहे हों शुभकामनायें.... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत अच्छा लिखा है आपने !
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  34. बेहद कोमल अहसासों से युक्त कोमल सी मनभावन रचना ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  35. ख़त लिखते हुए चूड़ियों का खनकना.. शायद पहली बार पढ़ा हूं.. अदभुद कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  36. वाह! कोमल एहसासों से सजी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  37. veerubhai ji,
    I am glad that you feel that way.
    Thanks for your encouragement.

    उत्तर देंहटाएं
  38. पल्लवी जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  39. संगीता स्वरुप जी,
    नयी पुरानी हलचल में शामिल करने के लिए आभारी हूं !
    आपको हार्दिक धन्यवाद एवं शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  40. अनिल अवतार जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  41. डॉ॰ दिव्या श्रीवास्तव जी ZEAL ,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  42. संजय मिश्रा हबीब जी,
    बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  43. साधना वैद्य जी,
    आप जैसी विदुषी कवयित्री की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  44. अरुण चन्द्र रॉय जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  45. डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" जी,
    बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  46. सुषमा 'आहुति' जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  47. kavita ji,
    Thank you for visiting my blog!
    It's pleasure to me .

    उत्तर देंहटाएं
  48. "चौखट में छोर फंसा चुनरी का
    नाग चुभता है उंगली में मुंदरी का"

    वाह - अप्रतिम

    उत्तर देंहटाएं
  49. राकेश कौशिक जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  50. बहुत सुन्दर --
    प्रस्तुति |
    बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  51. vidhya ji,
    It's pleasure to me .
    I feel honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  52. सुंदर भावार्थ समेटे गीत बधाई और शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  53. 'चौंकी जब आहट से सीढियाँ'
    वाह वर्षा जी !
    प्यारे सुकोमल प्रेमभावों को इतने सुन्दर गीत में पिरोया है .....एक-एक शब्द मोती जैसे
    चित्र का संयोजन पूर्व की भाँति अपूर्व....
    मनहर गीत

    उत्तर देंहटाएं
  54. इस रचना की दो-तीन बातें बहुत अच्छी लगीं ...
    * इसका भाव पक्ष इतना सबल है कि इसे बार-बार पढ़ने के बाद- भी मन नहीं भरता।
    ** इसके छोटे-छोटे बिम्ब जैसे सपनो को दस्तक, चौंकी सीढ़ियां, और अधपन्ने पर पत्र - चमत्कृत करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  55. ब्लॉग पर दस्तक और हौसला अफजाई के लिए शुक्रिया !
    प्राय : मन सकुचा कर सिमटा है,
    लज्जा के आँचल में
    लिपटा है सुनते ही सखियों की झिडकियां ...

    उत्तर देंहटाएं
  56. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    आप जैसे कवि एवं छंद के धनी रचनाकार की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  57. सागर जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  58. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  59. मनोज कुमार जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला...यह मेरा सौभाग्य है.
    आपकी इस गहन विश्लेणात्मक सुधी टिप्पणी के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    कृपया इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  60. बहुत ही कोमल भाव समेटे प्रेम पगी कब्यांजलि....शुभ कामनाएं एवं हार्दिक अभिनन्दन !!!

    उत्तर देंहटाएं
  61. You are welcome at my new posts-
    http://urmi-z-unique.blogspot.com
    http://amazing-shot.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  62. मुग्धा की हम बात जोहते ,प्रौढा ,(प्रगल्भा )की मजबूरी ...कितनी और मुग्धायें हैं आपके साहित्य कोष में .....?कभी परुधा पर भी कलम चलायें ,प्रगल्भा भी अमर हो जायेगी ....
    आपकी ब्लोगिया दस्तक हमारे लिखे के आंच है ...
    शुक्रवार, २ सितम्बर २०११
    खिश्यानी सरकार फ़ाइल निकाले ...

    उत्तर देंहटाएं
  63. चूड़ीयों की खनक का सुंदर प्रयोग। बधाई वर्षा सिंह जी इस सुंदर कविता के लिए॥

    उत्तर देंहटाएं
  64. kafi dino baad blog par aana hua abhi tak to bahut vyast thi.bahut sunder kavita bahut pyaare chitr ke saath padhne ko mili.badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  65. नजाकत के सभी प्रतिकों से सजी खुबसूरत प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  66. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. चूड़ियों की खनक से तो पकड़ा जाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  67. बहुत ही सुंदर....लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  68. मैं समय न मिलने और कुछ व्यक्तिगत कारणों से बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ.
    किन शब्दों में इस अप्रतिम रचना की प्रशंशा करूँ...बेजोड़..
    बहुत सुन्दर
    प्रस्तुति !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  69. Very sweet and romantic poetry.

    http://belovedlife-santosh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  70. श्रीप्रकाश डिमरी जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  71. prritiy---------sneh,
    Thank you so much for liking the post .
    You're always welcome on my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  72. चंद्रमौलेश्वर प्रसाद जी,
    आप जैसे सुधी साहित्यकार की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  73. Rajesh Kumari ji,
    It's a pleasure to have you on my blog, regards.
    You're always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  74. सुशील बाकलीवाल जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  75. P.N. Subramanian ji,
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं
  76. Suresh kumar ji,
    Hearty Thanks for your comment...
    You are always welcome in my blog.

    उत्तर देंहटाएं
  77. मदन शर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  78. Santosh Kumar ji,
    It's your kindness.Many-many hearty thanks to you.

    उत्तर देंहटाएं
  79. लोगो ने इतनी तारीफ कर दी है कि अब मैं क्या तारीफ करुं.....कुछ यादें मुखर हो आईं..सीधे शब्दे कभी-कभी सही में बांधते हैं...कुछ चूड़़ियों की चुभन है...वक्त ने खनकी चुड़ियों की आवाज का जादू तो ज्यादा नहीं रहने दिया..पर हां चुभन से पहले उसका अहसास जरुर कराया था....सुंदर और सरल कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  80. पसंद आई यह प्रस्तुति...बहुत खूब!!

    उत्तर देंहटाएं
  81. प्रेमाभिभूत नवयौवना के मनोभावों का सुंदर चित्रण ।

    उत्तर देंहटाएं
  82. लज्जा, श्रंगार और भोलापन ... प्रेम की मूक भाषा ... सभी कुछ तो है इन पंक्तियों में .... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  83. boletobindas ji,
    It's your kindness.Many-many hearty thanks to you.

    उत्तर देंहटाएं
  84. समीर लाल जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  85. आशा जोगळेकर जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  86. दिगम्बर नासवा जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला...यह मेरा सौभाग्य है.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  87. सदा जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.अनुगृहीत हूं ...

    उत्तर देंहटाएं
  88. चौंकी जब आहट से सीढियाँ ............
    वाह! बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  89. 'साहिल' जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  90. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ! गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  91. कोमल अहसासों की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  92. आपको अग्रिम हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं. हमारी "मातृ भाषा" का दिन है तो आज से हम संकल्प करें की हम हमेशा इसकी मान रखेंगें...
    आप भी मेरे ब्लाग पर आये और मुझे अपने ब्लागर साथी बनने का मौका दे मुझे ज्वाइन करके या फालो करके आप निचे लिंक में क्लिक करके मेरे ब्लाग्स में पहुच जायेंगे जरुर आये और मेरे रचना पर अपने स्नेह जरुर दर्शाए..
    MADHUR VAANI कृपया यहाँ चटका लगाये
    BINDAAS_BAATEN कृपया यहाँ चटका लगाये
    MITRA-MADHUR कृपया यहाँ चटका लगाये

    उत्तर देंहटाएं
  93. वर्षा जी, आपने मधुर भावों की सुन्दर वर्षा
    करके मंत्रमुग्ध कर दिया है मुझे.

    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.मेरी हर पोस्ट आपका दर्शन
    और आशीर्वाद चाहती है.

    उत्तर देंहटाएं
  94. अंकित पांडेय जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  95. अनुराग शर्मा जी, Smart Indian - स्मार्ट इंडियन
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  96. डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’जी,
    अनुगृहीत हूं ... विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  97. कैलाश सी. शर्मा जी जी,
    आप जैसे सुधी साहित्यकार की बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है. बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  98. NEELKAMAL VAISHNAW ji,
    It's your kindness.
    Hearty thanks for your comment on my poem. Your always welcome...

    उत्तर देंहटाएं
  99. Rakesh Kumar ji
    It's a pleasure to have you on my blog, regards...

    उत्तर देंहटाएं
  100. चंद्रमौलेश्वर प्रसाद जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  101. सुन्दर सुकोमल लजाती इतराती इठलाती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  102. अरविंद मिश्रा जी,
    आपकी सराहना मेरे गीत को मिली...यह मेरा सौभाग्य है.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  103. हमेशा की तरह बहुत ही कोमल और प्यारी सी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  104. सपना निगम जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  105. http://premchand-sahitya.blogspot.com/

    यदि आप को प्रेमचन्द की कहानियाँ पसन्द हैं तो यह ब्लॉग आप के ही लिये है |

    यदि यह प्रयास अच्छा लगे तो कृपया फालोअर बनकर उत्साहवर्धन करें तथा अपनी बहुमूल्य राय से अवगत करायें |

    उत्तर देंहटाएं
  106. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  107. अवनीश सिंह जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    ऐसा कौन होगा जिसे प्रेमचन्द की कहानियाँ पसन्द न हों...
    आपके इस आमन्त्रण के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं