सोमवार, अगस्त 08, 2011

याद करती हूं तुम्हें ....


155 टिप्‍पणियां:

  1. वर्षा जी ,

    जादू सिर चढा कर बोल रहा है ..बहुत सुन्दर , प्रेमपगी अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. उम्दा सोच
    भावमय करते शब्‍दों के साथ गजब का लेखन ...आभार....वर्षा जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीता स्वरुप जी,
    आपके शब्द हमेशा मेरा उत्साहवर्धन करते हैं.....अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  4. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय भास्कर जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्षमा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस भाव भरी रचना पर एक शे’र अर्ज़ करने की इजाज़त चाहूंगा--

    रूप की चांदनी में नहाता रहा,
    वो तिमिर में कहीं जगमगाता रहा।
    प्यार की अंगुलियों से जरा छू दिया,
    देर तक आइना गुनगुनाता रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर लेखन बेहतरीन ग़ज़ल, वर्षा जी मुझे अपने संकलन में आपकी प्रकाशित पुस्तके चाहिए कहा संपर्क करू , सादर (kushwansh @gmail .कॉम )

    उत्तर देंहटाएं
  9. कुछ खास..
    कुछ नया सा..
    मनमोहक !
    बहुत ही सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मनोज कुमार जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनामिका जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुश्वंश जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी...
    कृपया अपने डाक का पता देने का कष्ट करें मैं अपनी पुस्तकें उपलब्ध करा दूंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. माहेश्वरी कनेरी जी,
    मेरे गीत को सराहने के लिए अत्यन्त आभारी हूं आपकी......

    उत्तर देंहटाएं
  14. कमलेश खान सिंह डिसूजा जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. prem mey pagee behad marmsparshee geet..badhai, hamesha ki tarah. koi nayaa sangrah idhar aa rah haikya?

    उत्तर देंहटाएं
  16. सोमवार, ८ अगस्त २०११
    What the Yuck: Can PMS change your boob size?

    उत्तर देंहटाएं
  17. वर्षा की ग़ज़लें तमाम रचनाएं मुग्धा भाव की अनेक रंगी छटाएं लिए होतीं हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  18. Aaine e kke saamne baithun agar
    khud se khud main lajati hun..

    Bahut pyari rachna.. Aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  19. हर पंक्ति में मनोहारी भावों का समावेश,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. हर एक पंक्ति दिल को छु गयी.... बहुत ही खुबसूरत...

    उत्तर देंहटाएं
  21. बिहारी की "मुग्धा "नायिकाओं को पस्त करती पूर्ण समर्पित मुग्धाओं के अनेक शब्द चित्र समेटे रहतीं हैं आपकी कविताएं लेकिन अति -श्योक्ति आपके यहाँ नहीं है ,संयम और समर्पण है ..कृपया यहाँ भी आयें - http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_09.html
    Tuesday, August 9, 2011
    माहवारी से सम्बंधित आम समस्याएं और समाधान ...(.कृपया यहाँ भी पधारें -)

    उत्तर देंहटाएं
  22. अद्भुत सुन्दर रचना! हर एक शब्द दिल को छू गई! इस भावपूर्ण रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  23. bahut bheetar tak chhoone wali rachna hai, badhai !!! ye dil-fareb photo kahan se lati hain aap ?

    उत्तर देंहटाएं
  24. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आभारी हूं आपके विचारों के लिए....
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  25. गिरीश पंकज जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...
    हार्दिक धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  26. वीरूभाई जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  27. वीरूभाई जी,
    आमंत्रण के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  28. अनिल अवतार जी,
    आभारी हूं आपके विचारों के लिए....
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  29. विवेक जैन जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  30. ज्योति सिंह जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुषमा आहुति जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  32. बबली जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    आभारी हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  33. मनोज अबोध जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  34. अद्भभुत अहसासों से भरी है आपकी ये रचना,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  35. एक विशेष किस्म का तारल्य बहाव ,मुग्धा भाव से संसिक्त होतीं हैं आपकी रचनाएं ,पाठक को बारहा मौन निमंत्रण देती रसास्वादन का और उससे भी सुन्दर भाव चित्र .बधाई .
    अंदाज़ अपना आईने में देखतें हैं वो ,और ये भी देखतें हैं ,कोई देखता न हो .
    आइना देख के ये देख संवरने वाले ,तुझपे बेजा तो नहीं मारतें हैं मरने वाले ,बरबस यही पंक्तियाँ स्मृति में कौंध जातीं हैं तमाम चित्रों को देख निहार कर .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Wednesday, August 10, 2011
    पोलिसिस -टिक ओवेरियन सिंड्रोम :एक विहंगावलोकन .
    व्हाट आर दी सिम्टम्स ऑफ़ "पोली -सिस- टिक ओवेरियन सिंड्रोम" ?

    उत्तर देंहटाएं
  36. सागर जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  37. केवल राम जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  38. रवि राजभर जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  39. रामकृष जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...
    हार्दिक धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  40. विवेक जैन जी,
    आभारी हूं... मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  41. वाणी गीत जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.

    उत्तर देंहटाएं
  42. वीरूभाई जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....

    उत्तर देंहटाएं
  43. वीरूभाई जी,
    आमंत्रण के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  44. क्या बात है, बात कहने का एक ये भी अंदाज

    याद करती हूं तुम्हे हर पल और खुद ही मुस्कुराती हूं

    होता है, ऐसा भी..

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत सुन्दर रचना , बहुत खूबसूरत प्रस्तुति आभार

    उत्तर देंहटाएं
  46. मनमोहक,चित्ताकर्षक प्रेमगीत ...
    शब्दों के साथ चित्र का संयोजन ...अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत भावपूर्ण रचना है |अच्छी रचना के लिए बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  48. रश्मि प्रभा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि मेरा गीत आपको पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  49. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  50. सदा जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  51. एस.एन.शुक्ला जी,
    आभारी हूं आपके विचारों के लिए....
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  52. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  53. आशा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  54. aapke geet hon ya ghazalein,,,behad nirala andaj hota hao,,bhavon ke sath aapki kavya shilp mujhe behad prabhbit karti hai,,,sadar pranam ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  55. aapke geet hon ya ghazalein,,, mujhe behad prabhabait karte hain,,,hamesh ki tarah eka baar phir shandaar rachna padhne ka saubhagy mila..badhayee aaur sadar pranam ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  56. जितना माधुरी ,मुग्धा भाव आपकी रचनाओं में है ,उतनी ही स्नेहशीला ,वट- वृक्ष सी सब को समादर और स्नेह बांटतीं आप ब्लॉग -दर -ब्लॉग पहुँच रहीं हैं ,वो कहते हैं न फल -दार वृक्ष ही झुकता है ,सबको समीर ,छाया और फल देता है ."नेकी कर दरिया में डाल" का मुखर रूप हैं आप .बधाई आपके व्यक्तित्व और कृतित्व को . http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बुधवार, १० अगस्त २०११
    सरकारी चिंता .
    http://sb.samwaad.com/
    ऑटिज्‍म और पर्यावरणीय प्रभाव। Environment plays a larger role in autism.
    Posted by veerubhai on Wednesday, August 10

    उत्तर देंहटाएं
  57. nihayat khoobsoorat andaj me jb koi bat lb pr aati hai tb aisa hi kuchh samne ujagr ho jata hai jaisa aapki is kvita me ujagr ho gya hai .
    wah !

    उत्तर देंहटाएं
  58. प्रेमाभिव्यक्ति में आपका कोइ सानी नहीं है.हमेशा की तरह उम्दा गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  59. बहुत अच्छी रचना है!
    शुभकामनाएँ *****

    उत्तर देंहटाएं
  60. मनमोहक जादू.. मुग्ध कर रही है रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  61. वाह,मन्त्र मुग्ध कर देने वाली romantic रचना.क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  62. आइना देखूं चेहरा तेरा नजर आता है ,........
    कृपया यहाँ भी आपकी मौजूदगी अपेक्षित है -http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_9034.हटमल
    Friday, August 12, 2011
    रजोनिवृत्ती में बे -असर सिद्ध हुई है सोया प्रोटीन .

    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    बृहस्पतिवार, ११ अगस्त २०११
    Early morning smokers have higher cancer रिस्क.

    उत्तर देंहटाएं
  63. बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , आभार
    रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  64. आशुतोष मिश्र आशू जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  65. वीरूभाई जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    विचारों से अवगत कराने के लिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  66. राजवन्त राज जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  67. सपना निगम जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  68. अमरेन्द्र अमर जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  69. अरुण चन्द्र रॉय जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  70. कुंवर कुसुमेश जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  71. 'साहिल' जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.

    उत्तर देंहटाएं
  72. वीरूभाई जी,
    आमन्त्रण के लिए आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  73. एस एन शुक्ला जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  74. HypnoBirthing: Relax while giving birth?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?
    "बिन तुम्हारे आजकल तो ,शाम की आहट अखरती" ,प्रवासी के गीतों का दर्द उभरता है इस गीत संगीत में -"भोर होते कौन जाने छा गई कैसी उदासी ,क्या किसी की याद आई ,ओ !विरह व्याकुल प्रवासी . हर पंक्ति में कराहट विरह का अलाव सुलगता सा ,क्या कहने हैं आपके -बिन तुम्हारे आजकल तो रात भी पहलू बदलती ,दीप की बाती सुलगती

    उत्तर देंहटाएं
  75. वीरूभाई जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  76. मुबारक हो वर्षा जी प्यार का जादू यूहीं ताजिंदगी चढा रहे यही शुभकामनाएँ. उम्दा प्रस्तुति.स्वतन्त्रता दिवस की अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  77. रात सिलवट पर गुज़रती ...

    गज़ब के शब्द सजाये हैं आपने इस विरह रचना में ... प्रेम की फुहारी चल रही है जैसे ...

    उत्तर देंहटाएं
  78. क्षमा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  79. रचना दीक्षित जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  80. दिगम्बर नासवा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  81. उम्दा प्रस्तुति,स्वतन्त्रता दिवस की अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  82. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  83. अनुराग शर्मा जी,
    आपकी काव्यात्मक टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  84. सुनील कुमार जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    स्वाधीनता दिवस के पावन पर्व पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  85. विजय माथुर जी,
    स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  86. खुद को जान लेना एक बड़ी उपलब्धि है...आपको मालूम है कि आपको क्या चाहिए...एक सुखद रचना...स्वतंत्रता दिवस कि हार्दिक शुभकामनाएं स्वीकार करें...

    उत्तर देंहटाएं
  87. प्रेम की अलौकिक अभिव्यक्ति डॉ० वर्षा जी बहुत -बहुत बधाई और शुभकामनाएं |इतने सुंदर चित्र मत लगाया करिये मन भटक जाता है लेकिन गीत शानदार है इसलिए भटका नहीं |

    उत्तर देंहटाएं
  88. वाणभट्ट जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    स्वाधीनता दिवस के पावन पर्व पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  89. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    आपकी सह्रदयतापूर्ण टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  90. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  91. डॉ वर्षा सिंह जी यादें होती ही ऐसी हैं ..हंसा देती हैं रुला देती हैं..दिल में एक दिया जला देती हैं ...शाम की आहट क्यों न आखर जाए ......
    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  92. प्यार के कोमल भावों को शब्दों में ढाल दिया आपने . सुंदर रसभीनी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  93. प्रेम के कोमल भावों को शब्दों के अति सुन्दर मोतियों से सजाया आपने ...प्रेम पगी अनुपम कब्यांजलि ..शुभ कामनाएं एवं हार्दिक अभिनन्दन !!!

    उत्तर देंहटाएं
  94. बहुत सुन्दर कविता है वर्षा जी.
    आज़ादी की सालगिरह मुबारक़ हो.

    उत्तर देंहटाएं
  95. सावनी रंग में रंगी सुन्दर भावमयी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  96. डोरोथी जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  97. सुरेन्द्र कुमार शुक्ल जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  98. आशा जोगळेकर जी,
    आपकी सह्रदयतापूर्ण टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  99. श्रीप्रकाश डिमरी जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  100. वन्दना अवस्थी दुबे जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  101. श्याम सखा 'श्याम' जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  102. सुन्दर भावाभिव्यक्ति...

    आप से निवेदन है इस लेख पर आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया दे!

    तुम मुझे गाय दो, मैं तुम्हे भारत दूंगा

    उत्तर देंहटाएं
  103. Hriday ka udgaar bada hi khubsurat ban pada hai . shubhkamna

    उत्तर देंहटाएं
  104. आप को बहुत बहुत धन्यवाद की आपने मेरे ब्लॉग पे आने के लिये अपना किमती समय निकला
    और अपने विचारो से मुझे अवगत करवाया मैं आशा करता हु की आगे भी आपका योगदान मिलता रहेगा
    बस आप से १ ही शिकायत है की मैं अपनी हर पोस्ट आप तक पहुचना चाहता हु पर अभी तक आप ने मेरे ब्लॉग का अनुसरण या मैं कहू की मेरे ब्लॉग के नियमित सदस्य नहीं है जो में आप से आशा करता हु की आप मेरी इस मन की समस्या का निवारण करेगे
    आपका ब्लॉग साथी
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  105. Sawai Singh Rajpurohit ji,
    Thank you for visiting my blog!
    I thoroughly am enjoying reading yours!

    उत्तर देंहटाएं
  106. Amrita Tanmay ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  107. Dinesh pareek ji,
    Thanks for your invitation.
    I am now following your blog.

    उत्तर देंहटाएं
  108. बिन तुम्हारे आज कल तो, शाम की आहट अखरती.

    वाह !!!! क्या पंक्तियाँ हैं.बिल्कुल नूतन.

    उत्तर देंहटाएं
  109. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

    3- http://neelkamal5545.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  110. अरुण कुमार निगम जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  111. नीलकमल वैष्णव "अनिश" जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिएबहुत-बहुत धन्यवाद।
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  112. मन की बात मन ही जाने. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  113. अबनीश सिंह जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  114. Indranil Bhattacharjee ji,
    Your most welcome in my blog.
    Hearty thank you for the comment.

    उत्तर देंहटाएं
  115. आपकी रचनाओं में नदी का बहाव और सागर की गहराई समाहित होती है !
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  116. अक्षय-मन जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  117. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    आपकी सह्रदयतापूर्ण टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  118. वर्षा जी
    सबसे पहले तो मैं यही कहूँगा कि आज मुझे लगा कि इस ब्लॉग को पहले क्यों नहीं देखा.
    भावों से भरी दिल को छू लेती कविता और मुखर चित्र जो भावों को और भी स्पष्ट व स्पंदित कर देते है.
    मैं भी कवितायेँ लिखता हूँ और कुछ कुछ इसी शैली की. इसलिए विशेष बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  119. एक याद ही तो है जालिम जो सबसे ज्यादा सताती है..

    उत्तर देंहटाएं
  120. एक स्वतन्त्र नागरिक जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला....यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  121. अरविन्द जांगिड जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  122. प्रतीक माहेश्वरी जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  123. सुन्दर प्रस्तुति. कभी कभी अपने आप से ही प्यार हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  124. P.N. Subramanian ji,
    Hearty thank you for the comment.
    Always welcome your comments on my blogs.

    उत्तर देंहटाएं
  125. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  126. आचार्य परशुराम राय जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला....यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  127. NISHA MAHARANA ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my recent posts.

    उत्तर देंहटाएं
  128. Padhu ji,
    WELCOME on My BLOG.
    I am very glad to see your comment on my poem. Hearty thanks.

    उत्तर देंहटाएं