शनिवार, जुलाई 23, 2016

My Poetry

बज रही बांसुरी
सज रही ज़िन्दगी
चांद की आहटें
सुन रही चांदनी
मन में कान्हा बसे
रोशनी -  रोशनी
इश्क़ गढ़ने लगा
हर तरफ आशिक़ी
नेह - "वर्षा" हुई
भीगती शायरी
- डॉ वर्षा सिंह

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (25-07-2016) को "सावन आया झूमता ठंडी पड़े फुहार" (चर्चा अंक-2414) पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारी कविता वर्षा जी। कान्हा और राधा के प्रेम को साकार करती हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत प्यारी कविता वर्षा जी। कान्हा और राधा के प्रेम को साकार करती हुई।

    उत्तर देंहटाएं