सोमवार, जुलाई 18, 2011

तुम अगर गाओ ....

122 टिप्‍पणियां:

  1. तुम अगर गाओ ... बहुत प्यारे एहसास ..सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. संगीता स्वरुप जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए

    बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना , शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. है प्रतीक्षा नयन-द्वय में
    ढूँढती किसको तनय में
    स्वर्ण-मृग सा मिलन-पल वह
    जा मिला बीते समय में

    गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको चैन मिल जाये......

    क्षमा-याचना सहित ,क्या करें इन पंक्तियों ने जन्म ले ही लिया...

    उत्तर देंहटाएं
  5. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए

    बहुत ही भावपूर्ण और विनम्र आग्रह ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दरता से एवं ख़ूबसूरती से बुने गए अहसास और उन अहसासों को चार चाँद लगता चित्र वाह वर्षा जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही खुबसूरत और प्यारे एहसास को बहुत सुंदर शब्दों के साथ अभिवयक्त किया है आपने....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत रंग डाल दिए हैं आपने अपने गीत में वर्षा जी इस बार
    लगता है रिमझिम रिमझिम बरसात हो रही है.
    सावन मे सावन,वाह! क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही उत्कृष्ट रचना :
    वर्षा जी...शुभकामनाएँ :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए

    वर्षा जी, वाह क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं
  11. मनीष जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. एस.एन शुक्ला जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अरुण कुमार निगम जी,
    आपकी काव्यात्मक टिप्पणी के लिए हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  14. केवल राम जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुश्वंश जी,
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ाया...
    आपने मेरे गीत को पसन्द किया आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुषमा 'आहुति' जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने और प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  17. राकेश कुमार जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  18. कमलेश खान सिंह डिसूजा जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  19. संजय कुमार चौरसिया जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  20. रंग ताल और ठौर,
    मिलते नहीं आमतौर
    हैं उनके लिए ख़ास
    जरुर करेंगे वे गौर ||

    उत्तर देंहटाएं
  21. रविकर जी,
    आपकी काव्यमय टिप्पणी ने मन प्रफु्ल्लित कर दिया.....हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  22. महेन्द्र जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    आपके ब्लाग पर पहुंचते ही ब्लाग क्रश हो जाता है....सम्भवतः आपके ब्लाग में कोई error है. कृपया जांच कर लें.

    उत्तर देंहटाएं
  23. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण शब्दों में प्यारा सा अहसास..सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  25. महेश्वरी जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपकी रचनाओं की तरह आपकी प्रस्तुति भी लाजवाब होते है,
    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  27. विवेक जैन जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्षमा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  29. अनुराग शर्मा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही खूबसूरती से अपनी भावनाओं को प्रदर्शित करने में सफल एक खूबसूरत रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  31. ब्लॉग पर फोटो बहुत ही खूबसूरत है,
    और रचना है हमेशा की तरह अच्छी.

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत ही मनमोहक प्रेम गीत .....
    शब्दों का चयन और लयबद्धता .......साथ में चित्र संयोजन ....अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  33. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए
    दिल खुस हो गया.....बहुत सुन्दर गीत... सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुन्दरता से बुने अहसास ..
    सुन्दर-शब्दों चयन
    खूबसूरत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति. बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  36. अपने शब्द, लय ,ताल. , किसी के होठो पर चढ़ जाए तो जीवन सफल. सुँदर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  37. आपको मेरी हार्दिक शुभकामनायें.
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  38. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  39. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए
    bahut acchi panktiyan....

    उत्तर देंहटाएं
  40. गीत ये मेरे तुम अगर गाओ तो इनको ताल मिल जाए ,गुनगुनाओ तो धुन बन जाएं ........अच्छी भावाओं को आलोड़ित करती प्रस्तुती .

    उत्तर देंहटाएं
  41. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए

    बहुत खूबसूरत भावपूर्ण अभिव्यक्ति!
    शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  42. कुंवर कुसमेश जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.

    उत्तर देंहटाएं
  43. मीनाक्षी पंत जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  44. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  45. अविनाश मिश्र जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.... कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  46. Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ji,
    Thanks for your comments.
    Hope you will be give me your valuable response on my future posts.

    उत्तर देंहटाएं
  47. डॉ.हरदीप संधु जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  48. अवनीश सिंह जी,
    आप जैसे सुकवि के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  49. आशीष जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  50. विद्या जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  51. विद्या जी,
    आपके आमन्त्रण के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  52. सदा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  53. कनु जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  54. वीरू भाई जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  55. कविता रावत जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  56. सरल भाषा में सुंदर अभिव्यक्ति.

    सभी पाठक देखें और विचार व्यक्त करें. जरुर देखे."प्रिंट व इलेक्ट्रोनिक्स मीडिया को आईना दिखाती एक पोस्ट"

    उत्तर देंहटाएं
  57. आपकी रचनाएं काफी विलम्ब से पढने को मिलतीं हैं ,झाला लंबा खिंच जाता है ,विलंबित ताल सुनते रहना पड़ता है .हमनें द्रुत का बोलों का इंतज़ार रहता है .

    उत्तर देंहटाएं
  58. सुन्दर एहसास के साथ लाजवाब रचना! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गयी! आपकी लेखनी को सलाम!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  59. रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  60. वीरूभाई जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  61. बबली जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  62. बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना , शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  63. गीत ये मेरे
    तुम अगर गाओ
    तो इनको रंग मिल जाए
    bahut hi sundar bhav ,shukriyaan aane ke liye .

    उत्तर देंहटाएं
  64. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  65. कोमल अहसासों से परिपूर्ण सुन्दर रचना|

    neelkamal.com

    उत्तर देंहटाएं
  66. जगदीश बाली जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  67. एस एम जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  68. ज्योति सिंह जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  69. कैलाश सी. शर्मा जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  70. नीलकमल जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  71. बहुत सुंदर गीत और उतने सुंदर भाव इसके।

    उत्तर देंहटाएं
  72. गीत और चित्र दोनो ही सुंदर तथा एक दूसरे के पूरक भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  73. बहुत ही प्यारा गीत डॉ० वर्षा जी बधाई |मन खुश हो गया |

    उत्तर देंहटाएं
  74. रश्मि प्रभा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  75. मनोज कुमार जी,
    आपके विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं.... कृपया इसी तरह संवाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  76. आशा जोगलेकर जी,
    अपने विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  77. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    आप जैसे सुकवि के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  78. खूबसूरत अहसासों को पिरोती हुई एक सुंदर रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  79. डॉ. वर्षा जी, जितना सुन्दर आपका गीत, उतना ही सुन्दर आपने फोटो लगाया है। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  80. डोरोथी जी,
    आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  81. आचार्य परशुराम राय जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  82. बहुत खूबसूरत भावपूर्ण रचना , शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  83. अपनत्व जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  84. बहुत सुंदर भाव लिए पंक्तियाँ ....

    उत्तर देंहटाएं
  85. गीत ये मेरे तुम अगर गाओ तो इनको ,
    राग मिलजाए ,
    तान -पूरा तुम बनो तो साज़ मिल जाए .

    उत्तर देंहटाएं
  86. बहुत सुंदर गीत ! शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  87. Ab to mera bhi man gaane ka kar raha hai..
    Aapki prastuti se kahin jyada man bhawan aapka prastutikaran hai.. Aabhar.. (I am following You)

    उत्तर देंहटाएं
  88. समीरलाल जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  89. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  90. रजनीश तिवारी जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  91. सोमाली जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  92. अनिल अवतार जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  93. अमित श्रीवास्तव जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  94. Dr.Varsha ji aapke blog par pahli baar aai hoon aana sarthak ho gaya achchi rachna padhne ko mili.aapke blog se jud rahi hoon taki aapke update jaanti rahun.aapki anmol comment ke liye shukriya.ummeed karti hoon yeh sneh bana rahega.

    उत्तर देंहटाएं
  95. वाह, खूबसूरत गीत और उतना ही सुन्दर चित्रण..बधाई.
    __________________
    'शब्द-शिखर' : स्लट-वाक और बे-शर्म लोग

    उत्तर देंहटाएं
  96. आकांक्षा जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया।
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद बनाए रखें।
    आमन्त्रण के लिए आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  97. राजेश कुमारी जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    मेरे गीत को पसन्द करने के लिए हार्दिक आभार...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  98. आदरणीया ...Dr Varsha Singh जी सप्रेम अभिवादन ...
    आपकी रचनाओं में गहरी अभिब्यक्ति है जो सिर्फ टिप्पणी से कह पाना ,मुश्किल काम है ..
    मन की भावनाओं को सरल शब्दों में उकेरना आपकी एक उत्कृष्ट शैली है ...हार्दिक बधाई ...
    kosirgraminmitra.blogpost.com

    उत्तर देंहटाएं
  99. कोमल अहसासों से परिपूर्ण सुन्दर रचना|

    neelkamal.com

    उत्तर देंहटाएं
  100. लक्षमी नारायण जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  101. नीलकमल जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  102. मेरे ब्लॉग पर भी दर्शन दीजियेगा.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  103. मीत तुम मेरे ,मेरा तुम गीत बन जाओ तो ...
    प्रीत तुम मेरी ....बीन जाओ तो .....http://sb.samwaad.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  104. राकेश कुमार जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  105. वीरूभाई जी,
    आपको बहुत-बहुत आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  106. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    उत्तर देंहटाएं
  107. एस एन शुक्ला जी,
    मित्रता दिवस पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं...
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  108. सुँदर भावों को पिरोया है . मन प्रसन्न हुआ

    उत्तर देंहटाएं