शनिवार, मार्च 26, 2011

तुम नहीं आए ......


88 टिप्‍पणियां:

  1. आंसुओं से दृश्य धुन्धलाये ...तुम नहीं आये....
    बेहतरीन भावाभिव्यक्ति वर्षाजी..... मन के संवेदनशील भाव

    उत्तर देंहटाएं
  2. आंसुओं से द्रश्य धुंधलाये बहुत सुन्दर भाव लिए यह रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक सरस, गेय और सुंदर नवगीत

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपका आना सुखद लगा...हार्दिक धन्यवाद!
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील कुमार जी,
    प्रसन्नता हुई कि आपको मेरी गीत पसन्द आया....
    आपके विचारों का मेरे ब्लॉग्स पर सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनोज कुमार जी,
    हार्दिक धन्यवाद!
    आपने मेरे नवगीत को सराहा...आभारी हूं.
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ग़ज़ब के इंतज़ार और प्यारे- से इस नवगीत को पढ़कर किसी का एक शेर याद आ गया जो बड़ा मौजूं है.देखिएगा:-
    वादा किया था फिर भी न आये मज़ार पर.
    हमने तो जान दे दी इसी ऐतबार पर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कौन किसको आज समझाए.

    बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही खूबसूरत शब्दों से सजी कविता.


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. कौन किसको आज समझाए.

    बहुत खूब.

    har baar ki tarah bahut sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत शब्दों से सजी कविता| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  12. इंतज़ार जब इंतज़ार रह जाये ..उसके बाद मन में उठने वाले भावों का सुन्दर वर्णन ...सुन्दर लयबद्ध रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही प्यारा गीत वर्षा जी बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय वर्षा सिंह जी
    नमस्कार !
    कोमल भावों से सजी ..
    ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ! बेहद खूबसूरती से कोमल भावनाओं को संजोया इस प्रस्तुति में आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ...बहुत ही खूबसूरत शब्‍दों के साथ बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुंवर कुसुमेश जी,
    वाह... क्या शेर कहा आपने,मेरे नवगीत पर.....
    अपनी प्रतिक्रिया देने के लिये आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  18. विशाल जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  19. यशवन्त माथुर जी,
    आपका शुक्रिया .

    उत्तर देंहटाएं
  20. रश्मि प्रभा जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए
    बहुत बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  21. डॉ॰ दिव्या श्रीवास्तव जी ZEAL,
    आपकी इस आत्मीयता की मैं हृदय से आभारी हूं....
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. संजय कुमार चौरसिया जी,
    मेरे नवगीत पर.....
    अपनी प्रतिक्रिया देने के लिये आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  23. Patali-The-Village,
    Your most welcome in my blog.
    Hearty thanks for your valuable comment.

    उत्तर देंहटाएं
  24. संगीता स्वरुप जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं.
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  25. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आप जैसे सुधी पाठकों......साहित्यकारों की बहुमूल्य टिप्पणी से मेरा उत्साह बढ़ेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  26. संजय भास्कर जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. सदा जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए
    आपको हार्दिक धन्यवाद...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  28. इन्तजार का प्रत्येक पल जीवन को करीब से देखने का पल होता है ...किसी का इंताजर भी हमें बहुत कुछ सिखा देता है ...आंसुओं के दृश्यों का धुन्ध्लाना कितना सार्थक है इस इन्तजार में ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  29. केवल राम जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  30. इंतजार की बेबसी बहुत खूबसूरती से व्यक्त की है आपने.

    "आस भी देती दिलासा थक गयी है हारकर"

    वाह! क्या अंदाज है.शानदार रचना के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग 'मनसा वाचा कर्मणा' पर आपका स्वागत है.
    .

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत खूब।
    बहुत अच्छी लही यह कविता। अफसोस कि हम देर से पढ़ पाये।

    उत्तर देंहटाएं
  32. शुभकामनायें वर्षा सिंह जी !!
    इन्तेजार के उन कठिन क्षणों का बेहतरीन मर्मस्पर्शी वर्णन किया है आपने.
    दिल को छू गयी आपकी कविता और याद आ गया वो गीत---
    " ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना यह राह ये बाट कभी भूल न जाना "
    आपको मेरी तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत खूबसूरती से व्यक्त कि मन कि व्यथा ......!!
    बहुत सुंदर रचना -बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुन्दर भावप्रवण रचना . संवेदनशीलता से रूबरू कराती हुई .

    उत्तर देंहटाएं
  35. प्रभाव शाली रचना ! शुभकामनायें आपको!

    उत्तर देंहटाएं
  36. कृपया लही को रही पढ़ने का कष्ट करें। भूल से गलत टंकित हो गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  37. एक दिन मेरे आंसू मुझसे पूछ बैठे,मुझे रोज़ रोज़ क्यों बुलाते हो,
    मैने कहा ,हम बुलाते तो उन्हें हैं तुम क्यों चले आते हो ।

    उत्तर देंहटाएं
  38. दिल को छू गयी आपकी कविता , बहुत सुंदर रचना -बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  39. राकेश कुमार जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  40. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  41. मदन शर्मा जी,
    हार्दिक धन्यवाद ...
    इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  42. अनुपमा जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार...
    आपका सदा स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  43. आशीष जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए आभारी हूं....

    उत्तर देंहटाएं
  44. सतीश सक्सेना जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया...
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  45. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  46. अमित-निवेदिता जी,
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  47. कुश्वंश जी,
    आपने मेरे गीत को पसन्द किया... हार्दिक धन्यवाद...
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  48. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 29 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  49. प्रतीक्षा बेहद प्रभावी और खूबसूरत दिख रही है ..

    उत्तर देंहटाएं
  50. संगीता स्वरुप जी,
    मेरे इस गीत को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    आभारी हूं आपकी इस आत्मीयता के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  51. निवेदिता जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  52. प्रदीप नील जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  53. बहुत सुन्दर, बेहतरीन गीत ! आपका प्रस्तुति अंदाज भी प्रेरक और लाजबाब है !

    उत्तर देंहटाएं
  54. साँस साँस संवेदना ,धड़कन धड़कन प्रीत !
    ढल जाए अभिव्यक्ति तब,बनकर यूँ नवगीत !

    गीत की पंक्तियाँ हृदय की संवेदना को स्पंदित कर गयीं !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  55. चाह का परिन्दा...सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  56. क्या खुब लिखा है...इंतजार के पल को बखुबी चित्रीत किया है...प्रतीक्षा के पल तो होते ही है सुहाने और प्रेमदायी....बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  57. अजय कुमार झा जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया...
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    कृपया अपने विचारों से भी अवगत करायें.

    उत्तर देंहटाएं
  58. पी.सी.गोदियाल परचेत जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  59. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    आपकी इस आत्मीयता ने मुझे भावविभोर कर दिया है।
    मेरे गीत को पसन्द करने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  60. धीरेन्द्र सिंह जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  61. Er. सत्यम शिवम जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  62. ज्ञानचंद मर्मज्ञ जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  63. मेरे ब्लॉग पर आने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए
    आपको हार्दिक धन्यवाद...
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  64. दिनेश पारीक जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  65. राहुल सिंह जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  66. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, इन्तजार तो बना ही न ख़त्म होने के लिए नहीं तो उसकी कीमत क्या रह जायेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  67. रेखा श्रीवास्तव जी,
    मेरे गीत को पसन्द करने और बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए के लिए हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने हेतु......आपके इस अनुग्रह एवं
    आपकी इस आत्मीयता के लिए... मैं हृदय से आभारी हूं....
    पुनः धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  68. कौन किसको आज समझाये ........विरह की सही अबिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  69. आशा जोगलेकर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    बहुत-बहुत धन्यवाद...
    सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  70. "koi kisi ko
    nahee samjhaataa
    man hee man ko
    nirantar samjhaataa
    jab bhee rotaa,
    khud hee dilaasaa
    khud ko detaa"
    sundar rachnaa

    उत्तर देंहटाएं
  71. बहुत ही खूबसूरत शब्दों से सजी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  72. आप सब को नव संवत्सर एवं नवरात्रि पर्व की मंगलकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  73. नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  74. सुरेन्द्र शुक्ल भ्रमर जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने हेतु बहुत-बहुत धन्यवाद.
    कृपया अपने अमूल्य विचारों से भी अवगत कराएं।

    उत्तर देंहटाएं
  75. काजल कुमार जी,
    कार्टूनिस्ट की वाह... भी अमूल्य टिप्पणी है...
    मेरे गीत को पसन्द करने और टिप्पणी देने के लिए के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  76. डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  77. डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने हेतु बहुत-बहुत धन्यवाद.
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  78. अमरेंद्र अमर जी,
    जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  79. कुंवर कुसुमेश जी,
    नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की आपको भी हार्दिक बधाई.
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  80. विजय माथुर जी,
    आपको भी नव संवत्सर एवं नवरात्रि पर्व की मंगलकामनाएं.
    कृपया अपने अमूल्य विचारों से भी अवगत कराएं।

    उत्तर देंहटाएं
  81. Dr vrshaa singhji ,nav -samvatsar aapko bhi mubaarak .
    "achchhaa hi huaa ,vo nahin aaye "ek bhrm zaroori hai zindgee ke lie,apne hi bhaav jagat ko aanjnaa ,aanjte rahnaa zaari rahtaa hai .
    virah hi to jivan kaa sthaai bhaav hai .
    hamen "vo" umr ke is sevaa -nivritt -saupaan me mile bhi ,lekin naa jee bharke dekhaa naa kuchh baat kee ....
    yahi daastaan hain "pathhaariyaa hils "kee un vaadiyon kee ,aam ke baur se vo din the ,tasvvur aaj bhi hai .sagar to mere saath rhtaa hai .,jo apnaa aakaar khud nirdhaarit kartaa rahtaa hai ,jvaar bhaataa saa .
    sundar bhaav abhi vyakti ke liye ,BADHAAI .
    veerubhai .(yunivarsiti kaimpas me hi chaar saal beetee ,Maamaa hamaare arth -shaashtri rahen hain ,vhaan adhyaapan rat the .DR ,sri praksh .

    उत्तर देंहटाएं
  82. इस चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हमारा नव संवत्सर शुरू होता है इस नव संवत्सर पर आप सभी को हार्दिक शुभ कामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  83. वीरूभाई जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए।
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  84. मदन शर्मा जी,
    नव संवत्सर पर आपको भी हार्दिक शुभ कामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं