गुरुवार, फ़रवरी 10, 2011

आया मधुमास है


60 टिप्‍पणियां:

  1. वासंतिक रंगों में रंगी बहुत ही खुबसुरत रचना........बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्यम शिवम जी, आपका बहुत बहुत शुक्रिया.
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Kshama ji,Your warmly welcome in my blog and thanks for your valuable comments.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया वर्षा सिंह जी सादर नमस्ते |बहुत सुंदर रचना के लिए आपको बधाई |पत्र पत्रिकाओं में आपको और शरद सिंह जी को बहुत दिनों से पढता रहा हूँ ब्लॉग पर देखकर एक सुखद अनुभूति हुई |

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुबसुरत वासंतिक रंगों में रंगी रचना| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  6. आशा उत्साह बिखेरती सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी दूसरी बसंती रचना पढी.
    अतिसुन्दर.
    आपके पास गूढ़ शब्दों का अतुलनीय भण्डार होते हुए भी आप सरल शब्दों को प्रयोग करती हैं.
    तभी आपकी रचनाएँ पाठकों से सीधा संवाद पैदा करती हैं.आपसे बहुत कुछ सीखना है मुझे.
    ढेरों शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. चुपके से आया मधुमास है ..और यह मधुमास हमें पसंद आया ..इसलिए चुपके से एक कमेन्ट कर दिया ...आपका आभार इस सुंदर रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीया वर्षा सिंह जी
    नमस्कार !
    बहुत सुंदर रचना के लिए आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. वसन्त की आप को हार्दिक शुभकामनायें !
    कई दिनों से बाहर होने की वजह से ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद. आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा.
    शुभकामनाओं और प्रोत्साहन के लिये बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सत्यम शिवम जी,
    आपको बहुत बहुत धन्यवाद .
    "चर्चा मंच" की शनिवासरीय चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. ❖ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ जी
    ❖ मनोज कुमार जी
    ❖ केवल राम जी
    ❖ सुरेन्द्र सिंह ‘झंझट’जी
    ❖ संजय भास्कर जी
    ❖ Patali-The-Village
    ❖ sagebob

    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. जी हाँ सच में -चुके से आया मधुमास है -
    नटखट सी सुंदर अभिव्यक्ति -
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. मधुमास की ही तरह ये खूबसूरत सी रचना भी लहराती हुई रंग बिखराती आई है .आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  18. ❥ अनुपमा जी
    ❥ निवेदिता जी

    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत- बहुत खुबसूरत रचना एक बार पढ़ कर फिर पड़ने का दिल किया !

    उत्तर देंहटाएं
  20. वर्षा जी आपकी कविता बहुत ही अच्छी है। मधुमास की विशिष्टाओं को रेंखांकित करती है।
    बहुत अच्छी रचना।


    पर.................समस्या है कि मधुमास का आवास प्रकृति का आंचल सूना हो रहा है। उसके रंग-बिरंगा बनाने वाले वृक्ष.....पृथ्वी की शोभा बढाे वाले वृक्ष तेजी से कट रहे हैं। ऐसे में मधुप को उसका आवास........प्रकृति को मनमोहक शृंगार कैसे मिलेगा। जब इन सबका आधार वृक्ष ही नहीं रहेगा।



    इस दिशा में आपका सहयोग अपेक्षित है। प्रत्येक मांगलिक अवसर पर आप वृक्ष लगायें........दूसरों से भी लगवायें...........और हमें इसकी सूचना दें।
    आपका एक कदम हमारे अस्तित्व के लिये संजीवनी सिद्ध होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत प्यारा और सुन्दर गीत.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  22. aap mere blog par aayi .../
    achha lagaa ...
    http://meribaat-babanpandey.blogspot.com
    par jaakar meri ek prem kavita padhe..
    intazaar rahegaa/

    उत्तर देंहटाएं
  23. Nice post.
    यदि आप 'प्यारी मां' ब्लॉग के लेखिका मंडल की सम्मानित सदस्य बनना चाहती हैं तो कृपया अपनी ईमेल आई डी भेज दीजिये और फिर निमंत्रण को स्वीकार करके लिखना शुरू करें.
    यह एक अभियान है मां के गौरव की रक्षा का .
    मां बचाओ , मानवता बचाओ .
    http://pyarimaan.blogspot.com/2011/02/blog-post_03.html

    उत्तर देंहटाएं
  24. डॉ.वर्षा सिंह,
    सादर,
    आपकी रचना वसन्त सी प्यारी लगी। आभार। क्षमा प्रार्थना के साथ एक निवेदन है- इस गीत की पंक्तियों के अंत में आए "है" को हटाकर एकबार पढ़कर अवश्य देखें। इस धृष्टता के लिए पुनः एक बार क्षमा चाहता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. वसंत के रंगों सें सराबोर, आशा और उल्लास की छटा बिखेरती खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्यार के खता बही बहुत अच्छे लगे ...कोमल भावों को समेटे सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. सम्मानीय वर्षा जी अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  28. अत्यन्त खूबसुरत भावमयी रचना । आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  29. ✹ मीनाक्षी पंत जी
    ✹ कुंवर कुसुमेश जी
    ✹ बबन पाण्डेय जी
    ✹ डॉ.अनवर जमाल जी
    ✹ परशुराम राय जी
    ✹ डोरोथी जी
    ✹ संगीता स्वरुप जी
    ✹ अमरजीत जी
    ✹ सुशील बाकलीवाल जी

    .......आप सभी को हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  30. वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर...

    यह जिसका भी प्रयास है,अनुकरणीय है.
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुंदर रचना जी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  32. वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर said...

    डॉ. डंडा लखनवी जी के दो दोहे

    माननीय डॉ. डंडा लखनवी जी ने वृक्ष लगाने वाले प्रकृतिप्रेमियों को प्रोत्साहित करते हुए लिखा है-

    इन्हें कारखाना कहें, अथवा लघु उद्योग।
    प्राण-वायु के जनक ये, अद्भुत इनके योग॥

    वृक्ष रोप करके किया, खुद पर भी उपकार।
    पुण्य आगमन का खुला, एक अनूठा द्वार॥

    इस अमूल्य टिप्पणी के लिये हम उनके आभारी हैं।

    http://pathkesathi.blogspot.com/
    http://vriksharopan.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  33. बढ़िया और खूबसूरत रचना !शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  34. ✿ राज भाटिय़ा जी
    ✿ सतीश सक्सेना जी

    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  35. sorry mam meine bouth he dekha par nai mil paiya vo lyrics... but mujhe jese mile ga mein aapko send kar dugi.... keep smile tc

    Keep Visit my Blog Plz... :D
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    उत्तर देंहटाएं
  36. Varsha ji ..... the song titali udi sung by Sharada - can read and listen on my blog atulkushwaha-resources.blogspot.com..Welcome to bollywood talkies....thank u..

    उत्तर देंहटाएं
  37. Manpreet Kaur ji,
    Don't worry. I will be wait.

    Enjoy and take care......

    उत्तर देंहटाएं
  38. Atul kushwaha ji,
    Its pleasure to me . I'm thankful to you. I'm going to visit your Blog..... just now.

    उत्तर देंहटाएं
  39. मुकेश कुमार जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपको धन्यवाद.
    आपके विचारों से मेरा उत्साह बढ़ेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  40. मह मह महकती मधुमासी कविता मन को लुभा गई ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. आशा जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए हार्दिक आभार...
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  42. सपनों के रंग हुए गहरे हैं.... वाह ! खूबसूरत अभिव्यक्ति ...बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  43. डॉ॰ दिव्या श्रीवास्तव जी,
    मेरे ब्लॉग पर आने और विचारों से अवगत कराने के लिए आपको धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  44. वर्षा मेम !
    नमस्कार !
    बेहद सुंदर अभिव्यक्ति है , अच्छी रचना के लिए बधाई !
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  45. bahut sundar kavita , man ko chooti hui..

    बधाई

    -----------

    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .

    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.

    """" इस कविता का लिंक है ::::

    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html

    विजय

    उत्तर देंहटाएं
  46. सुनील गज्जाणी जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...
    हार्दिक शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  47. विजय कुमार जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है...
    आभारी हूं विचारों से अवगत कराने के लिए।
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  48. ज्योति सिंह जी,
    आपको हृदय से आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत ही उम्दा रचना , बधाई स्वीकार करें .
    आइये हमारे साथ उत्तरप्रदेश ब्लॉगर्स असोसिएसन पर और अपनी आवाज़ को बुलंद करें .कृपया फालोवर बन उत्साह वर्धन कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  50. वाह, क्या बात है !आदरणीया वर्षा सिंह जी
    नमस्कार !
    बेहद सुंदर अभिव्यक्ति है , अच्छी रचना के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  51. चुपके से आया मधुमास है ..बहुत ही उम्दा रचना ,
    मह मह महकती मधुमासी कविता मन को लुभा गई ।
    बधाई स्वीकार करें .

    उत्तर देंहटाएं
  52. मिथिलेश दुबे जी,
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  53. मदन शर्मा जी,
    हार्दिक धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  54. शिवकुमार ( शिवा) जी,
    मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिए आपका शुक्रिया.
    हार्दिक धन्यवाद! सम्वाद क़ायम रखें।

    उत्तर देंहटाएं