रविवार, अक्तूबर 21, 2012

खुद समझ लो.......


9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुती..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर|
    बधाई डा. साहिबा ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम जब सोते है तो सपने जागते है पर आप तो वहां भी दूर-दूर भागते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके सपनों और ख्वाब को समर्पित

    समझने और समझाने में,सपने टूट जाते हैं
    बैठो संग,चलें कुछ दूर,शायद पास आ जाएँ

    उत्तर देंहटाएं