रविवार, सितंबर 18, 2011

वो नहीं आया ....


143 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति इंतजार की छटपटाहट
    का अनुपम चित्रण करती हुई.

    आप भी क्या गजब ढहा देतीं हैं,
    शानदार प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका आना बहुत अच्छा लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Na karen shikayat ki wo nahin aaya..
    Aapne to intijar kiya, samay khoyi..
    Nukasaan to uska huaa... Jo nahin aaya..

    Bahut hi bhspurna prastuti.. Aabhar...

    उत्तर देंहटाएं
  3. राकेश कुमार जी,
    मैं आपको धन्यवाद भर कहूं तो कम होगा....
    आपके अपनत्व ने मुझे भावविभोर कर दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनिल अवतार जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. रश्मि प्रभा जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    इस आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  6. इंतजार की अनुपम प्रस्तुति,
    शानदार प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. संजय कुमार चौरसिया जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. shandaar birah ke dard ki prastuti..badhayee aaur sadar pranamk ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  9. इंतजार और इंतजार ........का फल मीठा होता है , अहसासों को अच्छे शब्द दिए है | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ आशुतोष मिश्र ‘आशु’ जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद...कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुनील कुमार जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.
    आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  12. डॉ० वर्षा जी बहुत ही श्रृंगार से भरा हुआ गीत बहुत ही सुन्दर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. दिल की बे -करारी का भाव गीत ,विरह अग्नि में कांटे बन गए कर्ण फूल... यही तो है इश्क की बे -करारी -
    न कोई वक्त ,न कोई उम्मीद ,
    न कोई वायदा ,
    खड़े थे रहगुज़र पर ,
    करना था तेरा इंतज़ार ......

    उत्तर देंहटाएं
  14. डॉ० वर्षा जी
    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल के साथ चित्र भी खूबसूरत हैं

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुन्दर गज़ल ..... मोहब्बत और विरह कि मिसाल है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. जयकृष्ण राय तुषार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा यह गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुषमा'आहुति'जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वीरू भाई जी,
    बहुमूल्य टिप्पणी देने के लिए हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  19. संजय भास्कर जी,
    मेरे गीत पर प्रतिक्रिया देने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  20. संजय भास्कर जी,
    आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए पुनः आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  21. रोशी जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  22. कल 19/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  23. यशवन्त माथुर जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा यह गीत पसन्द आया। नयी पुरानी हलचल पर इसे लिंक करने और इस उत्साहवर्द्धन के लिए आपकी अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह तो वही बतायेगा |

    आने वाला आएगा |

    पूँछ लीजियेगा पक्का--

    तनिक बहुत भरमाएगा ||

    उत्तर देंहटाएं
  25. रविकर जी,
    अपने गीत पर आपकी काव्यमय इस टिप्पणी को पा कर अनुगृहीत हूं.
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर भावपूर्ण ग़ज़ल| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  27. जितना खूबसूरत चित्र ,ग़ज़ल भी उतनी ही खूबसूरत...वाह: क्या कहने....लाजवाब..

    उत्तर देंहटाएं
  28. विरह भोग के बाद विरहणी की विरह विदग्ध वेदना का आस्वाद कराती प्रस्तुति .शुक्रिया ।
    राजनीतिक ठहरे हुए सरोवर उपवास का कंकड़ .

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रतीक्षा के पल तुम्हारे प्रिय इतने प्यारे होंगे क्या पता था...बहुत सुंदर भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेसब्री से किया इंतज़ार ..पर वो नहीं आया ...
    अब सोच कर परेशान हैं कि क्यों नहीं आया ?

    बहुत सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  31. इम्तहान हो गयी इंतज़ार की??
    वैसे इंतज़ार का फल मीठा ही होता है.. सब करते हैं.. आप भी करिए :)

    आभार
    तेरे-मेरे बीच पर आपके विचारों का इंतज़ार है...

    उत्तर देंहटाएं
  32. बेजोड़ पंक्तियाँ ...बहुत सुंदर ..

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर प्रतीक्षा सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  34. वर्षा जी क्या लिखू , आपकी कविताये एक से एक बढ़कर होती है मानो दिल को छूकर निकल रही हो , अभिव्यक्ति की अतिउत्तम गूँज होती हैं आपकी कविताये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  35. इंतजार के पल में हठात प्रस्फुटित गीत . सुँदर .

    उत्तर देंहटाएं
  36. Patali-The-Village ji,
    Thanks for your comments.
    You're always welcome.

    उत्तर देंहटाएं
  37. माहेश्वरी कनेरी जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......विचारों से अवगत कराने के लिए.. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  38. veerubhai ji,
    It's a pleasure to have you on my blog. regards..

    उत्तर देंहटाएं
  39. Er. सत्यम शिवम जी,
    आपके द्वारा मिली इस सराहना ने मेरे गीत को अभिभूत कर दिया है...हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  40. संगीता स्वरुप जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी इस आत्मीय टिप्पणी के लिए....
    हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  41. प्रतीक माहेश्वरी जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....
    आपके अनुग्रहपूर्ण निमन्त्रण के लिए हार्दिक धन्यवाद. ...

    उत्तर देंहटाएं
  42. वाणभट्ट जी,
    अपने गीत पर आपकी इस टिप्पणी को पा कर अनुगृहीत हूं.
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  43. डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....
    कृपया इसी तरह सम्वाद बनाए रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  44. वंदना जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  45. कुश्वंश जी,
    मैं आपको धन्यवाद भर कहूं तो कम होगा, आपके अपनत्व ने मुझे भावविभोर कर दिया है।
    अत्यन्त आभारी हूं....

    उत्तर देंहटाएं
  46. आशीष जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  47. सुरेश कुमार जी,
    मेरे गीत पर अपने विचार प्रकट करने के लिये आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  48. सुरेन्द्र सिंह " झंझट " जी,
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला....यह मेरा सौभाग्य है.
    इस आत्मीय टिप्पणी के लिए अत्यंत आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत खूब.

    आपकी कलम को सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  50. विशाल जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  51. मन के भावों को आपने सूक्षमता से पकड़ा है। सारे साज-ओ-श्रृंगार धरे रह जाते हैं, काट खाने को दौड़ते हैं, जब प्रियतम नहीं आते।

    उत्तर देंहटाएं
  52. मनोज कुमार जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  53. हमेशा के तरह एक और सुन्दर रचना !!
    नायिका के इंतज़ार के वियोग का उत्कृष्ट चित्रण !
    शुभकामनाएँ :)

    उत्तर देंहटाएं
  54. प्रतीक्षा का आरम्भ उत्साह से होता है और यदि चिर प्रतीक्षा हुई तो सचमुच सारे श्रृंगार बैरी बन जाते हैं.बहुत ही बारीकी और कोमलता से इन्हीं भावों का चित्र खींचा है.
    "किसलिये आज वो नहीं आया"- पंक्ति ने नायिका के सकारात्मक प्रेम की ओर इंगित किया और गीत को ऊँचाईयों तक पहुँचा दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  55. बहुत खूबसूरत नज़्म.
    किसी अपने बहुत ख़ास का इंतज़ार भी बड़ा जानलेवा होता है.आपकी इस नज़्म ने किसी का प्यारा-सा शेर याद दिला दिया,आप भी सुनिए:-
    वादा किया था फिर भी न आये मज़ार पर.
    हमने तो जान दे दी इसी एतबार पर पर.

    उत्तर देंहटाएं
  56. प्रेम की संपूरक है विरह वेदना .
    प्रतीक्षा में युग बीत गए, सन्देश न कोई मिल पाया ,
    सच बतलाऊ तुम्हें प्राण ,इस जीने से मरना भाया .
    Tuesday, September 20, 2011
    महारोग मोटापा तेरे रूप अनेक .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  57. वो नहीं आए ... प्रतीक्षा में रत बीत नहीं पाती ... दिन गुजरने नहीं पाता ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  58. वर्षा जी नमस्कार्। प्रतीक्षा की सुन्दर व्याख्या ।आपका मेरे ब्लाग पर हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  59. कमलेश खान सिंह डिसूजा जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  60. सपना निगम जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.अनुगृहीत हूं ...

    उत्तर देंहटाएं
  61. कुवंर कुसुमेश जी,
    आपकी बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  62. वीरूभाई जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  63. दिगम्बर नासवा जी,
    यह जानकर प्रसन्नता हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया....
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें....

    उत्तर देंहटाएं
  64. सुमन दुबे जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद। कृपया इसी तरह अपने अमूल्य विचारों से अवगत कराती रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  65. बेहद खूबसूरत है आपका ये गीत,
    साभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  66. इंतहा हो गई इंतजार की । सुंदर चित्र के साथ अति सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  67. दोनो कलाकारों की कलाकारी लाज़वाब है।
    प्रतीक्षा धन्य हुई...
    शब्द से..चित्र से..

    उत्तर देंहटाएं
  68. बुझ गये ख्वाब वो नही आया।बहुत अच्छा।

    उत्तर देंहटाएं
  69. तो फिर दूसरा ब्लॉग कैसे छोड़ देता आपका मैं....बाप रे बाप....एक तो आपकी फोटू वाली हंसी....फिर आपके ब्लॉग पर हंसती हुई फोटुएं...तिस पास उन हंसती हुईं फोटुओं पर गुनगुनाती हुई कवितायेँ....बाप रे बाप.....मार ही डाला.....कसम से मैंने कवितायें और ग़ज़लें तो पढ़ी ही होंगी...मगर ऐसी टिप्पणी तो बेशक कभी किसी को नहीं....वो भी बिना जान-बिना पहचान....अब अगर आपको बुरा ही मान लेना होओ मेरा....तो आपकी मर्ज़ी....अपन तो ऐसे ही हैं....और ऐसे ही रहेंगे.....मगर हाँ आपके ब्लॉग पर तो आते ही रहेंगे....क्या ब्लॉग है आपका....हाँ वर्षासिंह.ब्लॉगस्पोट.काम....ह्म्म्मम्म याद हो गया ना...!!

    उत्तर देंहटाएं
  70. घनीभूत भावों से भरी कविता अच्छी लगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  71. वियोग शृंगार का अनुपम उदाहरण है यह गीत।
    बहुत अच्छा लिखती हैं आप।

    उत्तर देंहटाएं
  72. विवेक जैन जी,
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  73. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  74. आशा जोगळेकर जी,
    मेरे गीत को आत्मीयता प्रदान करने के लिये आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  75. देवेन्द्र पाण्डेय जी,
    मेरी पोस्ट पर अपने विचार प्रकट करने के लिये आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  76. निशा महाराणा जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  77. राजीव थेपड़ा ( भूतनाथ ) जी,
    आपकी बहुमूल्य टिप्पणी ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  78. प्रेम सरोवर जी,
    आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  79. महेन्द्र वर्मा जी,
    अपने गीत पर आपकी इस टिप्पणी को पा कर अनुगृहीत हूं.
    हार्दिक आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  80. सुन्दर तस्वीर के साथ बेहद ख़ूबसूरत रचना! भावपूर्ण प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  81. डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  82. बबली जी,
    अनुगृहीत हूं आपकी आत्मीय टिप्पणी के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  83. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    उत्तर देंहटाएं





  84. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  85. बहुत ही सुन्दर भाव भर दिए हैं पोस्ट में........शानदार| नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  86. अनिल अवतार जी,
    नवरात्रि पर्व पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  87. राजेन्द्र स्वर्णकार जी,
    बहुत-बहुत धन्यवाद।
    नवरात्रि पर्व पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  88. कान्ति प्रसाद जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.
    नवरात्रि पर्व पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  89. सपरिवार आपको भी नवरात्री कि हार्दिक शुभकामनाएं.. माँ दुर्गा कि असीम कृपा आप पर बनी रहे.. आपकी लेखनी कि तरह आपका भविष्य भी दिनोंदिन निखरता रहे.. आपकी सारी मनोकामना पूर्ण हो... जय माता दी..

    उत्तर देंहटाएं
  90. khoobsurat jajbaat,virah vedna ke bhaav se saji ghazal bahut achchi lagi.aapko v aapke parivaar ko navraatre ki shubhkamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  91. क्या बात है, बहुत सुंदर
    इंतजार की इंतहा हो गई,बहुत खूबसूरती से लिखा है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  92. सच कहा, प्रिय (परमात्मा) नही आये तो झुमका बालियां (संसार का ऐश्वर्य) भी बोझ यानि बेमानी सा ही लगता है. पहली बार आपके ब्लाग पर आना हुआ, काफ़ी सारी रचनाएं पढी, मीरा जैसी महान रचनाएं लग रही है. बहुत ही श्रेष्ठतम.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  93. इन्तिहाँ हो गयी इंतज़ार की...
    सचमुच इंतज़ार की बेला बहुत तड़पाती है
    आप भी मेरे फेसबुक ब्लाग के मेंबर जरुर बने
    mitramadhur@groups.facebook.com

    MADHUR VAANI
    BINDAAS_BAATEN
    MITRA-MADHUR

    उत्तर देंहटाएं
  94. विरह रस की मनमोहक रचना....दुर्गा-पूजा की शुभकामनाएँ.
    कभी समय निकाल कर विज़िट करें
    www.belovedlife-santosh.blogspot.com(Hindi poetry)

    उत्तर देंहटाएं
  95. डॉ वर्षा सिंह जी ....सुन्दर भाव प्यारी रचना मन को छू गयी ..
    चुभ रहा कान का ये झुमका है ...वाह क्या बात है ..दीदार न होने से ऐसे ही खलल ....

    ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं .....जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    थोडा व्यस्तता वश कम मिल पा रहे है सबसे क्षमा करना
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  96. क्या कहूं ?? सुंदर से भी सुंदर रचना ,बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  97. अनिल अवतार जी,
    आपकी शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभारी हूं...हार्दिक धन्यवाद !
    सपरिवार आप पर भी माँ दुर्गा की असीम कृपा सदैव बनी रहे....हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  98. राजेश कुमारी जी,
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी......सपरिवार आपको भी ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  99. महेन्द्र श्रीवास्तव जी,
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  100. ताऊ रामपुरिया जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... हार्दिक धन्यवाद !
    यूं तो मैं आपको धन्यवाद भर कहूं तो कम होगा, आपके अपनत्व ने मुझे भावविभोर कर दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  101. नीलकमल जी,
    विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  102. संतोष कुमार जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत बहुत धन्यवाद !
    आपके अनुग्रहपूर्ण निमन्त्रण के लिए हृदय से आभारी हूं...

    उत्तर देंहटाएं
  103. डॉ. जेन्नी शबनम जी,
    आप जैसी कवयित्री के विचार मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं....अपने विचारों से अवगत कराने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  104. भ्रमर जी,
    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... आपकी शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभारी हूं...हार्दिक धन्यवाद !
    सपरिवार आप पर भी माँ दुर्गा की असीम कृपा सदैव बनी रहे....
    हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  105. वाह ...! बहुत खूब .....
    वर्षा जी is tarah की nazmein saritaa muktaa mein खूब chhpti hain
    आप bhejti nahin .....?

    उत्तर देंहटाएं
  106. वाह ...! बहुत खूब .....
    वर्षा जी is tarah की nazmein saritaa muktaa mein खूब chhpti hain
    आप bhejti nahin .....?

    उत्तर देंहटाएं
  107. सुंदर भावमय गीत, पढ़कर अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  108. हरकीरत ' हीर' जी,
    आपका आना सुखद लगा ...... आपके इस सुझाव के लिए हार्दिक धन्यवाद !
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  109. देवेन्द्र जी,
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  110. श्रृंगार के वियोग पक्ष की सहज अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  111. श्रृंगार के वियोग पक्ष की सहज अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  112. Veerubhai ji,
    Thank you for visiting my blog! I felt honored by your comment.

    उत्तर देंहटाएं
  113. रेखा श्रीवास्तव जी,
    आपका आगमन बेहद सुखद लगा ......
    यह जानकर सुखद अनुभूति हुई कि आपको मेरा गीत पसन्द आया। आपको हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  114. वर्षा जी,
    बुझ गए ख्वाब वो नहीं आया.....एक सुन्दर रचना के लिए साधुवाद.
    पूरे परिवार को नवरात्र की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  115. धन्यवाद् अपना वक़्त निकल कर मेरे ब्लॉग पर टिपण्णी करने के लिए, आपका ब्लॉग काफी अच्छा है, आशा है की इसी तरह कुछ बेहतरीन पढ़ने मिलेगा आपके ब्लॉग से, आपके ब्लॉग को मै अभी से follow कर रहा हूँ .

    Girls & Guys these days have gone wild for uploading a picture on Face book .
    Take a look here facebook profile pick

    उत्तर देंहटाएं
  116. ओमप्रकाश यती जी,
    आपका आगमन सुखद लगा ......
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।
    आपको भी नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  117. Hariom Shamkuwar ji, Unlucky
    Why r u unlucky.....जबकि आपका खूबसूरत और meaningful BLOG आपके भाग्य के प्रति आश्वस्त करने वाला है....PLEASE CHANG THE BLOG NAME.

    मेरे गीत पर आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया है.... आपकी शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभारी हूं...हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  118. धन्यवाद् आपकी टिपण्णी के लिए आपके, आप के सुज़ाव का मै स्वागत करता हूँ , तथा आज ही WORD VERIFICATION OPTION हटा रहा हूँ, धन्यवाद् , मगर ब्लॉग address मै change नहीं कर सकता मैंने यह ब्लॉग ऐसे ही बना लिया था, मगर आज इसके बहोत से विसिटर है, अगर इसका address बदल दिया गया तो सभी विसिटर, भटक जायेंगे, लेकिन ध्यानयवाद आपके सुज़ावो का, और आशा करता हूँ की और भी बढ़िया कविताये मुजे पढ़ने मिलेगी आपके ब्लॉग पर, और हा अगली नयी पोस्टिंग पर सबसे पहली टिपण्णी मेरी ही हो ऐसी आशा है,

    Many times Photographers have to wait hours to just take that perfect photo shot and only once in a while they get lucky enough to get there right shot ...

    Take a look here Awesome Photography

    उत्तर देंहटाएं
  119. प्रसाद गुण से भरपूर सुन्दर गीत। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  120. बहुत सुंदर गीत. मिठास है भाव हैं गीत में. बेहतरीन प्रस्तुति.

    विजयादशमी की आपको व आपके परिवार को शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  121. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  122. Hariom Shamkuwar ji, Unlucky
    मैं हमेशा यह प्रयास करती हूं कि मैं ऐसे गीत-ग़ज़ल लिखूं कि वे ब्लाग-पाठकों को पसंद आएं.....आपको हार्दिक धन्यवाद !
    मेरे ब्लॉगस पर सदैव आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  123. आचार्य परशुराम राय जी,
    आपकी पारखी दृष्टि को प्रणाम...
    इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  124. Lu,
    It's a pleasure to have you on my blog. Regards.
    You're always welcome.
    Hearty Thanks for following my BLOGS.

    उत्तर देंहटाएं
  125. रचना दीक्षित जी,
    आपकी शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभारी हूं...हार्दिक धन्यवाद !
    विजयादशमी पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  126. विजय माथुर जी,
    आपकी शुभकामनाओं के लिए हार्दिक धन्यवाद !
    विजयादशमी पर आपको भी सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  127. रचनायें बहुत ही खूबसूरत और ब्लॉग मे प्रस्तुति भी साज सज्जा के साथ। श्रृंगार रस पर विशेष जोर…वियोग हो या संयोग……बहुत ही सुंदर…बधाई एवम आभार……

    उत्तर देंहटाएं
  128. dhal gayi raat wo nahi aya....wah... virah vedna ko wahi jaan sakta hai jisne ise mehsoos kiya ho.....
    aapka blog bhi bahut sunder bana hai...rachana post kerne ka andaaz bhi bahut interesting hai...badhai...

    उत्तर देंहटाएं
  129. सूर्यकान्त गुप्ता जी,
    मेरे गीत को पसंद करने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद।
    आपके विचारों का सदैव स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  130. अनिता अग्रवाल जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!
    आपका स्नेह मेरे गीत को मिला..यह मेरा सौभाग्य है.बहुत-बहुत आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  131. मलकीत सिंह जीत जी,
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है
    अत्यन्त आभारी हूं आपकी, विचारों से अवगत कराने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं